व्यापमं घोटाला कवर करने गए पत्रकार की मौत

इमेज कॉपीरइट Getty

टीवी चैनल आज तक के विशेष संवाददाता अक्षय सिंह की मध्य प्रदेश में मौत हो गई है. वे आज तक की विशेष जाँच टीम में साल 2013 से जुड़े थे.

इंडिया टुडे ग्रुप ने एक बयान जारी कर कहा है कि अक्षय पिछले चार दिनों से व्यापमं घोटाले की जाँच के सिलसिले में मध्य प्रदेश में थे. अक्षय की मौत झाबुआ में हुई.

बयान में कहा गया है कि मौत के कारणों का अभी पता नहीं चला है.

बयान के मुताबिक, "हमें उम्मीद है कि डॉक्टर और कानूनी जाँच एजेंसियाँ अक्षय की मौत के कारण पता लगा पाएँगे."

जाँच के लिए गए थे पत्रकार

इमेज कॉपीरइट VIPUL GUPTA

स्थानीय पत्रकार राजेश चतुर्वेदी ने बीबीसी को बताया, "अक्षय और उनकी टीम दोपहर को झाबुआ के मेघनगर पहुँची. वहाँ ये नम्रता नाम की लड़की के माता-पिता के घर गए थे. नम्रता डामोर इंदौर के सरकारी मेडिकल कॉलेज में पढ़ती थीं उनकी लाश में 2012 में रेलवे ट्रैक के नज़दीक मिली थी. बाद में नम्रता को व्यापमं घोटाले में अभियुक्त बनाया गया था. माता-पिता का आरोप था कि ये आत्महत्या नहीं हत्या है."

वहीं मध्य प्रदेश में झाबुआ के पुलिस अधीक्षक आबिद खान ने बीबीसी को बताया, "पुलिस के पास मौजूद जानकारी के मुताबिक अक्षय सिंह की तबीयत दिन में 12 बजे के करीब ख़राब हुई. उन्हें पहले सरकारी अस्पताल ले जाया गया. फिर झाबुआ से करीब 45 किलोमीटर दूर गुजरात के दाहोद ले जाया गया. वहां उनकी मौत हो गई."

पुलिस अधीक्षक के मुताबिक मौत की वजह की जानकारी पोस्टमार्टम रिपोर्ट से मिलेगी.

व्यापमं व्यावसायिक परीक्षा मंडल का शॉर्टफ़ॉर्म है. ये एक सरकारी संस्था है. व्यावसायिक परीक्षा मंडल मध्य प्रदेश में प्री मेडिकल टेस्ट, प्री इंजीनियरिंग टेस्ट और कई सरकारी नौकरियों के लिए परीक्षाएं करवाता है.

इन परीक्षाओं में भ्रष्टाचार के आरोप लगे हैं और हर साल मेडिकल की सरकारी सीटें और सरकारी नौकरियां बेचने के भी आरोप लगे हैं. इन आरोपों की जांच एसआईटी कर रही है. ये मामला अदालत में भी है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार