डॉक्टरों की लिखाई से परेशान परमात्मा

  • 7 जुलाई 2015
डॉक्टर बदलेंगे पर्ची लिखने का तरीका? इमेज कॉपीरइट Thinkstock

तेलंगाना के चिलकुरी परमात्मा ने दवा की पर्ची यानी प्रिस्क्रिप्शन लिखने के डॉक्टरों के तरीके को पूरी तरह बदलवाने की ठान रखी है.

इसकी वजह है 2012 की एक घटना जिसमें हाथ घसीट कर लिखी गई और लगभग न पढ़ने लायक पर्ची के एक फ़ालतू अक्षर ने तीन साल के एक बच्चे की जान ले ली.

हैदराबाद की इस घटना ने चिलकुरी परमात्मा को हिला कर रख दिया.

वो कहते हैं कि उनके पास आज ऐसी दवाओं की लंबी फ़ेहरिस्त है, जिनके नामों में मामूली सा अंतर जीवन और मौत का फ़ैसला कर सकता है.

इमेज कॉपीरइट Chilkuri Paramathma
Image caption चिलकुरी परमात्मा कई बरसों से इस मुद्दे पर सक्रिय हैं

परमात्मा की कोशिशों का ही नतीजा है कि केंद्र सरकार जल्द एक अधिसूचना जारी करने जा रही है.

इसमें डॉक्टरों को सलाह दी जाएगी कि वे सभी दवाओं के नाम अंग्रेज़ी के कैपिटल लेटर यानी बड़े अक्षरों में ही लिखें.

अदालत का आदेश

चिलकुरी परमात्मा ने सरकार को इस बारे में दो पत्र लिखे, लेकिन जब जवाब नहीं मिला तो उन्होंने अदालत का दरवाज़ा खटखटाया.

उन्होंने आंध्र प्रदेश हाई कोर्ट में जनहित याचिका दायर कर दी.

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

अदालत ने भारतीय मेडिकल कौंसिल (एमसीआई) को आदेश दिया है कि वह क़ानून तैयार करे जिसमें डॉक्टरों से कहा जाए कि वे कैपिटल लेटर में ही प्रिस्क्रिप्शन लिखें.

तेलंगाना राज्य के नलगोंडा में अपने घर पर बीबीसी से बातचीत में उन्होंने कहा, “एमसीआई ने 2014 में इस बारे में एक प्रस्ताव पारित किया. उसके बाद ही केंद्र सरकार ने मुझे ख़त लिखा कि फ़ैसला ले लिया गया है.”

जेनेरिक दवाएं?

इमेज कॉपीरइट THINKSTOCK

परमात्मा दूसरी वजहों से भी इस अधिसूचना का बेसब्री से इंतज़ार कर रहे हैं.

वो जानना चाहते हैं कि इस आदेश का पालन नहीं करने वाले डॉक्टरों के ख़िलाफ़ दंड का प्रावधान प्रस्तावित क़ानून में है या नहीं.

स्वास्थ्य मंत्रालय के एक वरिष्ठ अफ़सर ने बीबीसी से कहा, “अधिसूचना पर काम चल रहा है. डॉक्टरों के ख़िलाफ़ कार्रवाई का प्रावधान शायद न हो. बहरहाल, डॉक्टरों पर मेडिकल क्षेत्र की आचार संहिता लागू होती है. उसके मुताबिक़ ही कार्रवाई की व्यवस्था हो सकती है.”

आचार संहिता लागू होगी?

इमेज कॉपीरइट Thinkstock

इंडियन मेडिकल एसोशिएसन के अध्यक्ष डॉक्टर केके अग्रवाल कहते हैं, “हमने दो शब्द बदलने के लिए साल 2002 में एक प्रस्ताव पारित किया था. ‘लेजीबल’ यानी ‘पढे जाने लायक’ और ‘प्रेफरेबली इन कैपिटल लेटर्स’ यानी ‘कैपिटल अक्षरों को प्राथमिकता दी जाए’ को इसमें शामिल किया जाएगा. पर यह सिर्फ सलाह होगी. दंडात्मक कार्रवाई आचार संहिता से तय होती है.”

परमात्मा यह भी चाहते हैं कि डॉक्टर जेनेरिक दवाएं ही लिखें. यह इसलिए कि अलग अलग दवा कंपनियां अलग अलग ब्रांड नाम से दवाएं बनाती और बेचती हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार