उत्तराखंड में भारी बारिश की आशंका

केदारनाथ मंदिर इमेज कॉपीरइट AP

उत्तराखंड के कई हिस्सों में अगले 48 घंटे में भारी बारिश की चेतावनी दी गई है.

बदरीनाथ, केदारनाथ, गंगोत्री और यमुनोत्री जाने वाले रास्तों पर इस दौरान सबसे ज़्यादा बारिश की संभावना है. कुमाऊं के कुछ हिस्सों में भी भारी बारिश की आशंका है.

सबसे ज़्यादा डर भूस्खलन का बना हुआ है. उत्तराखंड मौसम केंद्र ने सजग और सावधान रहने और तैयारी रखने की सलाह दी है.

Image caption उत्तराखंड में जून 2013 में आई आपदा से भारी नुकसान हुआ था.

मुख्यमंत्री हरीश रावत ने देर रात वीडियो कॉन्फ़्रेंसिंग के ज़रिए संवेदनशील ज़िलों के डीएम और अन्य अधिकारियों से बात की. सरकार ने अधिकारियों को सारी व्यवस्था चुस्त दुरस्त रखने को कहा है. बारिश शुरू होते ही चार धाम के यात्रियों को आगे जाने से रोकने और पड़ावों में ही बने रहने की हिदायत दी गई है.

ज़िला प्रशासन सतर्क

हरिद्वार, उधम सिंह नगर और देहरादून के ज़िला प्रशासन को भी बाढ़ के हालात को देखते हुए अलर्ट किया गया है.

इमेज कॉपीरइट Amandeep Midha

मौसम विभाग ने अपनी चेतावनी में चमोली, रुद्रप्रयाग और उत्तरकाशी ज़िला प्रशासनों को विशेष रूप से सतर्कता बरतने को कहा है.

उत्तराखंड मौसम केंद्र के निदेशक आनंद शर्मा ने बताया, "इस दौरान यात्रियों को भी सतर्क रहना चाहिए और पूरी एहतियात बरतना चाहिए."

इस चेतावनी के बीच भूस्खलन का ख़तरा भी कई जगह मंडरा रहा है. पिछले दिनों हुई बारिश से पहले ही रास्ते क्षतिग्रस्त हैं और कुछ जगहों पर जगह सड़कें और पुल बह चुके हैं.

अधिकारियों का कहना है कि गढ़वाल और कुमाऊं में कई रास्तों के टूट जाने से गांवों से संपर्क टूट गया है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार