झारखंडः एसपी को 'गाली' दी, पूर्वमंत्री गिरफ़्तार

झारखंड इमेज कॉपीरइट sekhar
Image caption झारखंड के पूर्वमंत्री चंद्रशेखर दूबे

झारखंड में गढ़वा पुलिस ने पूर्व मंत्री चंद्रशेखर दूबे को गिरफ़्तार कर जेल भेज दिया है.

वे धनबाद के सासंद भी रहे हैं.

उन पर गढ़वा के एसपी आलोक प्रियदर्शी के साथ गाली गलौज करने, सरकारी काम में बाधा पहुंचाने का आरोप है.

इन्हीं आरोपों को लेकर प्राथमिकी दर्ज कराई गई है. एसपी ने बताया कि पूर्व मंत्री उनके आवासीय कार्यालय में आए थे.

"उन्होंने मनपसंद अंगरक्षक देने की मांग की. जब मैंने उनसे कहा कि नियम संगत ढंग से ही वे इस मामले में कार्रवाई कर सकते हैं तो वे उखड़ गए."

एसपी के मुताबिक, एफआईआर में इसका उल्लेख है कि तेज आवाज़ में बोलते हुए वे सरकारी काम में बाधा पहुंचाने लगे.

उन्होंने गोपनीय दस्तावेज़ भी फाड़े और अपशब्दों का इस्तेमाल किया, कॉलर पकड़ा और एसपीगीरी निकाल देने की धमकी देने लगे.

इसके बाद पुलिस को बुलाकर उन्हें गिरफ़्तार कराया गया.

आवेदन

इमेज कॉपीरइट sekhar
Image caption पूर्व मंत्री ने भी प्रथमिकी के लिए आवेदन दिया

इधर पूर्व मंत्री ने भी गढ़वा थाने में एसपी के ख़िलाफ़ प्राथमिकी दर्ज करने के लिए आवेदन दिया है.

उन्होंने मीडिया से कहा कि वे सुरक्षा संबंधी बात करने गए थे.

इस पर एसपी ने उनके साथ दुर्व्यवहार किया. एसपी से इस बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि आवेदन मिला है. पुलिस उसे देख रही है.

सड़क जाम, पांच गिरफ़्तार

इमेज कॉपीरइट
Image caption समर्थकों ने विरोध प्रदर्शन किया

पूर्व मंत्री को गिरफ़्तार किए जाने के विरोध में उनके समर्थकों ने नारेबाजी शुरु कर दी और सड़क को जाम कर दिया.

गिरफ़्तार पूर्व मंत्री को जेल ले जाने में भी पुलिस को काफी मशक्कत करनी पड़ी.

सड़क जाम हटाने के लिए पुलिस को बल प्रयोग करना पड़ा.

एसपी ने बताया कि सड़क जाम करने और कानून व्यवस्था तोड़ने के आरोप में पूर्व मंत्री के पांच समर्थकों को गिरफ़्तार कर लिया गया है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार