हिंदी माध्यम के टॉपर से जानिए सफलता के गुर

मेरठ के सरकारी स्कूलों में पढ़ने वाले निशांत जैन ने बीए और एमए भी छोटे कॉलेजों से किया लेकिन एमफिल करने दिल्ली यूनिवर्सिटी आए.

निशांत कहते हैं कि हिंदी माध्यम के छात्र आत्मविश्वास की कमी का शिकार होते हैं और अंग्रेज़ी से डर कर दूर भागते हैं.

वो कहते हैं, "हिंदी में 52 अक्षर हैं और अंग्रेज़ी में 26. अंग्रेज़ी पढ़िए. आसान भाषा है. पढ़िए और इस्तेमाल कीजिए."

सोशल मीडिया पर कई लोगों ने निशांत से तरह-तरह के सवाल किए कि वो कितने घंटे पढ़ते हैं, कैसे पढ़ते हैं आदि-आदि.

निशांत जैन के साथ गूगल हैंगआउट देखिए

इन सबके जवाब में निशांत ने पांच बातें बताईं यूपीएससी की परीक्षाओं में सफल होने के लिए.

  • तनावमुक्त औऱ दबावमुक्त होकर तैयारी करें.
  • पढ़ाई को एन्जॉय कीजिए यानी जो पढ़ें तो ये सोच कर पढ़ें कि आपने सीखा क्या. रटें नहीं.
  • कर्म करें और फल की चिंता न करें. गीता का सार है. कठिन नहीं है आसान है. पढ़िए और भूल जाइए कि क्या प्राप्त होगा या नहीं होगा.
  • इंटिग्रेटेड अप्रोच रखिए. आज का जमाना समग्रता का ज़माना है. ग्रीस में अगर संकट है तो ये ज़रुर सोचिए कि इसका भारत पर क्या असर पड़ेगा तभी आप बेहतर कर पाएंगे. सारे विषयों को मिलाकर देखिए. कनेक्ट कीजिए चीज़ों को.
  • कॉमन सेंस बनाए रखें. रात में जगने या 18 घंटे पढ़ने की ज़रुरत नहीं है. मैं तो 12 बजे सो जाता था सुबह सात बजे उठता था. सामान्य रहें. समाज में एक्टिव रहिए. बंद कमरे में मत रहिए. सक्रिय रहें.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)