कश्मीर में '1.6 किलोमीटर लंबी' इफ़्तार पार्टी

भारत प्रशासत कश्मीर स्थित डल झील के किनारे इफ़्तार पार्टी इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption मशहूर डल झील के किनारे आयोजित हुई इफ़्तार पार्टी

भारत प्रशासित कश्मीर में एशिया की सबसे लंबी इफ़्तार पार्टी का रिकॉर्ड बनाने की कोशिश की गई.

आयोजकों के अनुसार शनिवार शाम को डल झील के किनारे क़रीब तीन हज़ार लोगों ने इसमें शिरक़त की जिसमें कई अनाथ बच्चे भी शामिल थे.

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

आयोजकों ने डल झील के किनारे 150 दरियां बिछाईं, जो क़रीब 1.6 किलोमीटर लंबी थीं. जिनपर रोज़ेदारों ने खजूर, फल और चिकन तहरी खाकर अपना रोज़ा तोड़ा.

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

इससे पहले मिस्र के शहर एलेक्जेंड्रिया में सात हज़ार लोगों ने एक साथ रोज़ा तोड़ा था. इन सभी के लिए कई मेजें लगाई गई थीं जिनकी कुल लंबाई 4.3 किलोमीटर हो गई थी.

जिसके बाद उन्होंने सबसे लंबी इफ़्तार पार्टी का विश्व रिकॉर्ड बनाया था.

ढोल बजाकर उठाते हैं

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

कश्मीर में एक बहुत पुराना रिवाज़ है जिसमें रोज़ा रखने वालों को सुबह होने से पहले कुछ लोग ढोल बजाकर उठाते हैं. ढोल बजाने वालों को शहरख़ान कहा जाता है.

ये शहरख़ान आमतौर पर पांच से छह किलोमीटर का दायरा तय करते हैं.

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

इन सभी का एक तय इलाक़ा होता है जिसमें वो ढोल बजाते हैं.

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

रमज़ान के आख़िरी दिन शहरख़ान घर-घर जाकर इस काम के लिए पैसे मांगते हैं. यहां के लोग भी धार्मिक और सांस्कृतिक कर्तव्य समझकर उन्हें पैसे देने से मना नहीं करते.

पहला नाइट फूड मार्केट

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

इस रमज़ान में पहली बार दिल्ली के कई फूड आउटलेट एक साथ मिलकर कश्मीर के लोगों को एक नया ज़ायका चखा रहे हैं.

आयोजकों ने श्रीनगर में मौजूद कश्मीर हाट में इन आउटलेट्स के स्टॉल लगवाएं हैं ,जिसमें लोगों के लिए इफ़्तार से लेकर सहरी तक खाने-पीने की व्यवस्था है.

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

इसमें दिल्ली के करीम, ख़ान चाचा, टुंडे कबाब और हैदराबाद सुल्तान बिरयानी और कश्मीर के काठी जंक्शन शामिल हैं.

हालांकि 1990 के बाद से कश्मीर में शाम होते ही दुकानें बंद हो जाती हैं, लेकिन रात भर खुले रहने वाले इन स्टॉलों ने लोगों में नई उम्मीद जगाई है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार