‘मोदी-नवाज़ के समझौते के ख़िलाफ़ फ़ायरिंग’

  • 19 जुलाई 2015
नरेंद्र मोदी और नवाज़ शरीफ़ इमेज कॉपीरइट AFP GETTY

पाकिस्तान ने कहा है कि भारतीय सेना ने शनिवार को एलओसी पर बग़ैर उकसावे के फ़ायरिंग कर उफ़ा समझौते का उल्लंघन किया है.

पाकिस्तानी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा कि इस फ़ायरिंग को लेकर भारत से विरोध दर्ज कराया गया है और ये कार्रवाई उफ़ा में दोनों देशों के प्रधानमंत्रियों के बीच हुई सहमति के ख़िलाफ़ है.

पाकिस्तानी सेना ने कहा कि भारतीय सेना की ओर से शनिवार को नेज़ा पीर सेक्टर में फ़ायरिंग की गई जिसमें किसी के मारे जाने की कोई ख़बर नहीं है.

भारतीय सेना ने भी ईद के मौके पर पाकिस्तान की तरफ़ से गोलाबारी होने के आरोप लगाए हैं.

पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय ने एक बयान जारी कर कहा कि पिछले कुछ दिनों से एलओसी पर जो फ़ायरिंग हो रही है वह निंदनीय है.

इमेज कॉपीरइट AFP

सेना के प्रवक्ता का कहना है कि पाकिस्तानी फ़ौज ने भारत और पाकिस्तान के लिए संयुक्त राष्ट्र के सैन्य पर्यवेक्षक समूह से कहा है कि वह एलओसी और ‘वर्किंग बाउंड्री’ पर भारत की तरफ़ से होने वाले संघर्ष विराम की जांच करे.

उफ़ा से आगे

नरेंद्र मोदी और नवाज़ शरीफ़ के बीच शंघाई सहयोग संगठन का सालाना सम्मेलन शुरू होने से पहले रूस के उफ़ा शहर में मुलाकात हुई थी.

इमेज कॉपीरइट AP
Image caption भारत-पाकिस्तान के बीच एलओसी पर फ़ायरिंग लंबे अरसे से विवाद का विषय रही है.

मुलाकात के बाद जारी साझा बयान में बीएसएफ़ और पाकिस्तान रेंजर्स के शीर्ष अधिकारियों के बीच भी जल्द बातचीत की घोषणा की गई थी.

हालांकि नवाज शरीफ़ की पाकिस्तान में इस बात को लेकर आलोचना हो रही है कि साझा बयान में कश्मीर मुद्दे का ज़िक्र नहीं था.

वैसे उफ़ा से लौटने के बाद ही नवाज शरीफ़ के विदेश मामलों के सलाहकार सरताज अज़ीज़ ने कहा था कि कश्मीर मुद्दे के बिना भारत से बातचीत नहीं हो सकती.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार