'किसी केंद्रीय मंत्री ने कुछ ग़ैरक़ानूनी नहीं किया'

इमेज कॉपीरइट EPA

संसद सत्र से पहले कांग्रेस की ओर से सुषमा स्वराज, शिवराज चौहान और वसुंधरा के इस्तीफ़ो की मांग को केंद्रीय मंत्री वेंकैया नायडू ने ख़ारिज कर दिया है.

दिल्ली में संसद सत्र से पहले सर्वदलीय बैठक के बाद वेंकैया नायडू ने कहा, "इस्तीफे का तो सवाल ही नहीं उठता. और संसद पर किसी का हुक्म नहीं चलता. हमारी सरकार पूर्ण बहुमत की सरकार है."

उन्होंने ये भी कहा कि सरकार मॉनसून सत्र में सभी विषयों पर चर्चा करने को तैयार है.

'नैतिकता का सवाल'

इमेज कॉपीरइट PTI BBC

इससे पहले विपक्षी पार्टी कांग्रेस ने आक्रामक रवैया अपनाते हुए विदेश मंत्री सुषमा स्वराज, मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज चौहान और राजस्थान की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे के इस्तीफ़े की मांग की थी.

कांग्रेस के प्रवक्ता अजय कुमार ने कहा, “राजनीति में नैतिकता का बहुत महत्व है. इस सत्र में कांग्रेस की मांग रहेगी कि व्यापमं की निष्पक्ष जांच के लिए शिवराज चौहान इस्तीफ़ा दें.”

उनका कहना था कि ललित मोदी के मसले पर वसुंधरा और सुषमा स्वराज की ललित मोदी को ‘अनैतिक मदद’ के कारण उन्हें भी पद से इस्तीफ़ा देना चाहिए.

सर्वदलीय बैठक

सर्वदलीय बैठक में प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, "हमें भूमि बिल पर आगे कदम उठाने चाहिए."

इमेज कॉपीरइट PTI

नरेंद्र मोदी ने कहा, "संसद लोकतंत्र के लिए बेहद अहम है. संसद का उपयोग सभी मुद्दों पर बात करने के लिए किया जाना चाहिए. हमारी सरकार सभी मुद्दों पर बात करने के लिए तैयार है."

सर्वदलीय बैठक में मोदी ने आगे कहा, "सरकार को संसद चलाने के लिए पहल करनी होगी और जिम्मेदारियां उठानी होंगी. लेकिन ये भी जरूरी है कि ये जिम्मेदारी सब मिलकर निभाए."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार