कलाम की कही 10 प्रेरणादायी बातें

पूर्व राष्ट्रपति एपीजे अब्दुल कलाम का सोमवार को शिलॉन्ग में निधन हो गया.

'आम लोगों के राष्ट्रपति' कहे जाने वाले कलाम छात्रों के बीच ख़ास तौर से लोकप्रिय थे.

वो अक्सर छात्रों से बातें करते थे और उन्हें आगे बढ़ने के लिए प्रेरित करते थे.

एक नज़र उनकी कहीं कुछ प्रेरक बातों पर.

  • आपका सपना सच हो, इससे पहले आपको सपना देखना होगा.
  • श्रेष्ठता एक सतत प्रक्रिया है, कोई हादसा नहीं.
  • जीवन एक मुश्किल खेल है. आप इंसान होने के अपने जन्मजात अधिकार को बरक़रार रखते हुए ही इसे जीत सकते है. <image id="d5e363"/>
  • इंसान को मुश्किलों की ज़रूरत पड़ती है क्योंकि सफलता का आनंद उठाने के लिए ये मुश्किल बहुत ज़रूरी हैं.
  • हमें तभी याद रखा जाएगा जब हम अपनी युवा पीढ़ी को एक समृद्ध और सुरक्षित भारत दे पाएं. इस समृद्धि का स्रोत आर्थिक समृद्धि और सभ्य विरासत होगी.
  • जो लोग मन से काम नहीं कर सकते, उन्हें जो सफलता मिलती है वो खोखली और आधी-अधूरी होती है जिससे आसपास कड़वाहट फैलती है.
  • शिक्षाविदों को छात्रों के लिए बीच समानता, रचनात्मकता, उद्यमिता और नैतिक नेतृत्व की भावना विकसित करनी चाहिए और वे छात्रों का आर्दश बनें.
  • आसमान की तरफ देखिए. हम अकेले नहीं हैं. पूरा ब्रह्मांड हमारा दोस्त है और वो उन्हीं को सबसे सर्वोत्तम देता है जो सपने देखते हैं, मेहनत करते हैं. <image id="d5e379"/>
  • अगर किसी देश को भ्रष्टाचार मुक्त बनना है, सुंदर मस्तिष्कों वाला देश बनना है तो मेरी साफ़ राय है कि समाज के तीन सदस्यों की इसमें बहुत अहम भूमिका है. ये तीन लोग हैं पिता, मां और अध्यापक.
  • मेरा संदेश, ख़ासकर युवा लोगों के लिए ये है कि वो अलग तरीक़े से सोचने का साहस दिखाएं, आविष्कार करने का साहस दिखाएं, अंजाने रास्तों का सफ़र करें, असंभव लगने वाली चीजों को खोजें और समस्याओं पर विजय पाते हुए सफलता हासिल करें. ये वो महान गुण हैं जिन्हें हासिल करने की दिशा में उन्हें काम करना है. युवाओं के लिए यही मेरा संदेश है. <image id="d5e389"/>

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)