याक़ूब की फांसी पर सुनवाई मंगलवार को

याक़ूब मेमन इमेज कॉपीरइट pti

याक़ूब मेमन की डेथ वांरट के ख़िलाफ़ दायर याचिका पर अब सुप्रीम कोर्ट मंगलवार को सुनवाई करेगा.

सोमवार को सुप्रीम कोर्ट में याक़ूब की याचिका पर सुनवाई हुई लेकिन अदालत किसी फ़ैसले पर नहीं पहुँच सकी.

अब उनकी याचिका पर मंगलवार को सुनवाई होगी.

महाराष्ट्र सरकार का कहना है कि याक़ूब मेमन को 30 जुलाई को फांसी दी जानी है और इसके लिए नागपुर जेल में तैयारियां शुरू कर दी गई हैं.

शुक्रवार को याक़ूब मेमन ने सुप्रीम कोर्ट में अपने डेथ वारंट को ग़ैर क़ानूनी बताते हुए इसके ख़िलाफ़ याचिका दायर दी थी.

इमेज कॉपीरइट monica chaturvedi
Image caption याक़ूब मेमन के रिश्तेदार ने उनसे जेल पहुँचकर मुलाकात भी की है.

याक़ूब मेमन की दलील है कि तमाम क़ानूनी विकल्पों के ख़ात्मे से पहले ही उनके लिए डेथ वारेंट जारी कर दिया गया था जो कि ग़ैर-क़ानूनी है.

मुंबई हमलों के दोषी याक़ूब मेेमन को 2007 में फांसी की सज़ा सुनाई गई थी.

राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने 2013 में उनकी दया याचिका रद्द कर दी थी. सुप्रीम कोर्ट ने भी उनकी रिव्यू पिटिशन और क्यूरेटिव पिटिशन ख़ारिज कर दी है.

याक़ूब मेमन ने एक क्षमा याचना महाराष्ट्र के राज्यपाल के समक्ष भी भेजी है.

भारत में कई बुद्धिजीवी भी याक़ूब मेमन की फांसी का विरोध कर रहे हैं.

पूर्व न्यायाधीशों और राजनेताओं के एक समूह ने राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी से उनकी फांसी को उम्रक़ैद में बदलने का आग्रह किया है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार