नगा संगठन और भारत सरकार में शांति समझौता

इमेज कॉपीरइट PIB

केंद्र सरकार ने नगा अलगाववादी संगठन एनएससीएन(आईएम) के साथ एक शांति समझौते पर हस्ताक्षर किए हैं.

इस समझौते पर नई दिल्ली में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की उपस्थिति में हस्ताक्षर किए गए.

इससे पहले प्रधानमंत्री मोदी ने ट्वीट कर कहा कि वो शाम साढ़े छह बजे 7 रेसकोर्स रोड से बड़ी घोषणा करने वाले हैं.

प्रधानमंत्री मोदी ने समझौते पर हस्ताक्षर होने को एक ऐतिहासिक क्षण बताया.

हालांकि इस समझौते का ब्यौरा अभी जारी नहीं किया गया है.

भारत के पूर्वोत्तर राज्य नगालैंड में लंबे समय से अलगववादी आंदोलन चल रहा है और ये आंदोलन कई गुटों में बंटा है.

सोमवार को केंद्र सरकार ने इसाक-मुइवा गुट के साथ समझौता किया.

'नया रिश्ता'

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

मोदी ने कहा कि समझौते को होने में इसलिए इतनी देर लगी क्योंकि 'हम एक दूसरे को नहीं समझते थे'.

उन्होंने ब्रितानी राज पर 'फूट डालो और राज करो की नीति' के तहत नगाओं को अलग थलग रखने का आरोप लगाया.

एनएससीएन (आईएम) के नेता टी मुइवा ने समझौते पर हस्ताक्षर करने के बाद कहा, "हम एक नए रिश्ते में दाख़िल हो रहे हैं."

उन्होंने कहा, "मैं आपको विश्वास दिलाना चाहता हूं कि नगाओं पर विश्वास किया जा सकता है."

(बीबीसी हिंदी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)