पूर्व मंत्री मारन तीन दिन में 'सरंडर' करें: हाई कोर्ट

दयानिधि मारन इमेज कॉपीरइट AFP

मद्रास हाई कोर्ट ने पूर्व टेलीकॉम मंत्री दयानिधि मारन की अग्रिम ज़मानत याचिका ख़ारिज कर दी है.

समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक जस्टिस एस वैद्यनाथन ने मारन से तीन दिनों के भीतर सीबीआई के समक्ष आत्मसमर्पण करने को कहा है.

सीबीआई डीएमके नेता दयानिधि मारन के ख़िलाफ़ अवैध टेलीकॉम एक्सचेंज मामले की जाँच कर रही है.

सीबीआई का आरोप है कि मारन ने अपने पद का दुरुपयोग करते हुए चेन्नैई स्थित अपने घर में अवैध टेलीकॉम एक्सचेंज लगवाया था.

आरोप हैं कि उन्होंने सन टीवी को फ़ायदा पहुँचाने के लिए उच्च क्षमता वाले सैंकड़ों केबल बिछवाए थे.

दयानिधि मारन के भाई कलानिधि मारन सन टीवी के मालिक हैं.

आरोपों के बाद 2007 में मारन को टेलीकॉम मंत्री का पद छोड़ना पड़ा था और उनकी ही पार्टी के ए राजा टेलीकॉम मंत्री बने थे.

ए राजा भी एक अन्य टेलीकॉम घोटाले में जेल जा चुके हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार