गूगल के मुखिया पिचाई के स्कूल में जश्न

इमेज कॉपीरइट Vanavani Matriculation Higher Secondary School

चेन्नई के वनवाणी मैट्रिकुलेशन हायर स्कूल के छात्र इस ख़बर से बहुत ख़ुश हैं कि उनके स्कूल में ही पढ़े सुंदर पिचाई आज दुनिया की सबसे बड़ी सर्च इंजन कंपनी गूगल के सीईओ बन गए हैं.

सोशल मीडिया पर ये ख़बर सोमवार कल रात से ही चल रही है लेकिन मंगलवार सुबह स्कूल के छात्र-छात्राओं को ये ख़बर सबसे पहले मॉर्निंग एसेंबली में प्रिंसिपल कावेरी पद्मनाभन ने दी.

उन्होंने बच्चों से कहा कि अगर वे भी अपने इस सीनियर की तरह मेहनत करें तो उन्हें भी कामयाबी मिल सकती है.

ये स्कूल आईआईटी चेन्नई कैंपस के हरे भरे इलाके में स्थित है. इस स्कूल के लिए ही नहीं, बल्कि पूरे चेन्नई के लिए ये गर्व की बात है कि उसका अपना एक लड़का गूगल का सीईओ बना है.

'हमारा भी योगदान'

इमेज कॉपीरइट twitter

पद्मनाभन कहती हैं कि निजी तौर पर उन्हें और स्कूल के सभी कर्मचारियों को इस बात पर गर्व है कि पिचाई की इस कामयाबी थोड़ा ही सही, लेकिन उनका भी कुछ योगदान है.

वो कहती हैं, “बिल्कुल, हम उन्हें स्कूल में आमंत्रित करना चाहेंगे और ये भी चाहेंगे कि वो हमारे छात्रों से बात करें, जो उनसे और अधिक प्रेरित होंगे.”

'हिंदुस्तान टाइम्स' से बातचीत में उन्होंने कहा, “जो भी शानदार काम उन्होंने किया और ज़बरदस्त कामयाबी पाई है, वो हमारे लिए (स्कूल के तौर पर) एक बेहद सम्मान की बात है कि हमने इसमें योगदान दिया, भले ही ये योगदान थोड़ा ही हो.”

वो कहती हैं, “हां, हम इस ख़बर और इस पल का जश्न मना रहे हैं और बच्चे बहुत ख़ुश हैं और हमसे इस बारे में और ज़्यादा जानना चाहते हैं.”

किताबी कीड़ा

इमेज कॉपीरइट Vanavani Matriculation Higher Secondary School

पट्टु सुब्रमण्यम इसी स्कूल में सुंदर पिचाई से दो साल सीनियर थे. वो याद करते हैं कि सुंदर कैसे मेहनती, पढ़ाकू और किताबों में डूबे रहते थे.

उनके मुताबिक सुंदर के चेहरे पर हमेशा एक मुस्कान रहती थी लेकिन वो एक तरह से किताबी कीड़ा थे.

इस समय चेन्नई में बीएमडब्ल्यू के प्लांट में लॉजिस्टिक्स के प्रमुख के तौर पर काम कर रहे पट्टु सुब्रमण्यम कहते हैं, “एक बार मैं उनसे पेन्सिलवेनिया में मिला था. लेकिन मैंने कभी नहीं सोचा था कि ये शर्मिला सा लड़का कभी इतना बड़ा आदमी बनेगा.”

वो कहते हैं, “इतनी बड़ी वैश्विक कंपनी का नेतृत्व करना बहुत ही सम्मान और गर्व की बात है कि हमारे बीच से ही एक लड़का यहां पहुंच पाया है.”

इमेज कॉपीरइट Vanavani Matriculation Higher Secondary School

मुरुगावेल सेलवन भी स्कूल में सुंदर से दो क्लास आगे थे. वो ख़ुद भी इस समय एक आईटी उद्यमी हैं.

वो कहते हैं कि पिचाई के बारे में उन्होंने अलग अलग संदर्भों में बहुत कुछ सुना है.

'मान बढ़ाया'

वो कहते हैं, “अपने माता पिता को समर्पित पिचाई ने उनका और हम सबका मान बढ़ाया है.”

सेलवन बताते हैं कि हाल ही में सुंदर पिचाई ने चेन्नई में अपने माता-पिता के लिए एक सुपर लग्जरी फ्लैट ख़रीदा है जिसकी कीमत चार से पांच करोड़ रुपए के बीच है.

इमेज कॉपीरइट AFP

वो कहते हैं कि पिचाई का गूगल प्रमुख बनना हमारे लिए, वनवाणी स्कूल और सभी के लिए बहुत ही प्रेरणा वाली बात है.

सेलवन का कहना है कि उनकी कामयाबी दिखाती है कि भले ही आपकी पृष्ठभूमि कुछ भी रही हो, लेकिन अगर आप किसी अपने लक्ष्य की दिशा में मेहनत करें तो सफलता निश्चित है.

(स्थानीय पत्रकार केवी लक्ष्मण से बातचीत पर आधारित)

(बीबीसी हिंदी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार