मां से पूछें क्वात्रोची से कितना मिला: सुषमा

सोनिया, राहुल, सुषमा इमेज कॉपीरइट All images. AFP.INC

ललित मोदी विवाद में भारतीय विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने कांग्रेस पर पलटवार करते हुए पार्टी उपाध्यक्ष राहुल गांधी और पूर्व वित्त मंत्री पी चिदम्बरम पर निशाना साधा है.

बोफोर्स मामले में इतालवी व्यापारी क्वात्रोची का ज़िक्र करते हुए सुषमा स्वराज ने लोकसभा में कहा, ''राहुल गांधी को अपनी मां से पूछना चाहिए उन्हें क्वात्रोची से कितना पैसा मिला था.''

उन्होंने मध्यप्रदेश के पूर्व कांग्रेसी मुख्यमंत्री अर्जुन सिंह की आत्मकथा का हवाला देते हुए कहा, ''कांग्रेस ने वॉरेन एंडरसन और क्वात्रोची को भागने का मौका दिया.''

इमेज कॉपीरइट PTI

सुषमा स्वराज ने कहा, ''मैं विपक्ष को बताना चाहती हूं हितों का टकराव क्या होता है. हितों का टकराव तब होता है जब चिदम्बरम की पत्नी को उनके ही मंत्रालय की ओर से वकील बनाया जाता है. चिदम्बरम ने सदन में इस बात को स्वीकार किया था.''

इमेज कॉपीरइट AFP

कांग्रेस ललित मोदी विवाद में प्रधानमंत्री मोदी के बयान की मांग कर रही थी. प्रधानमंत्री ने बयान नहीं दिया तो कांग्रेस ने लोकसभा से वॉकआउट किया.

राहुल गांधी ने लोकसभा में कहा, ''आप बोलने से मत डरिए, देश सुनना चाहता है.''

'कोई ग़लती नहीं की'

इमेज कॉपीरइट PTI

इससे पहले लोकसभा में ललित मोदी मुद्दे पर विपक्ष के हंगामे के बीच विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने कहा कि उन्होंने कोई ग़लती नहीं है.

ललित मोदी की मदद के मामले में विपक्ष के हंगामे के बीच स्वराज ने स्पीकर से कहा कि वे कांग्रेस सांसद मल्लिकार्जुन के सवालों के जवाब देने की अनुमति चाहती है.

स्वराज का कहना था कि खड़गे कह रहे है कि इस मामले में मेरी स्वीकृति और सहभागिता थी.

इसका जवाब देते हुए उन्होंने कहा, ''मैं इतना कहना चाहूंगी कि एक महिला जो भारत की नागरिक है और 17 साल से कैंसर से पीड़ित है, उसके ख़िलाफ़ कोई मामला नहीं है और ऑपरेशन के लिए पुर्तगाल जाना चाहती है और मैंने उसकी मदद की तो उस महिला की मदद करना गुनाह है. इसे मेरा दोष को स्वीकार करना बताया जा रहा है.''

स्वराज ने बताया कि ललित मोदी के यात्रा दस्तावेज़ दिलाना मेरे विचाराधीन हीं नहीं था.

हितों का टकराव

इमेज कॉपीरइट PIB

उनका कहना था, ''ललित मोदी के मामले में मेरा कोई हितों का टकराव नहीं है. मेरे पति ललित मोदी के पासपोर्ट मामले में वकील नहीं थे और मेरी बेटी नौंवे नंबर की वकील थी. इस मामले में मेरी बेटी और पति ने ललित मोदी से एक नया पैसा नहीं लिया.''

स्वराज ने पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम का मामला उठाते हुए हितों के टकराव की बताई कही. उनका कहना था कि जब पी चिंदबरम वित्त मंत्री थे तो उनकी पत्नी को इनकम टैक्स में वकील चुना गया था जिसपर संसद में सवाल भी पूछा गया था.

कांग्रेस की नारेबाज़ी के बीच सुषमा स्वराज ने वारेन एंडरसन और क्वात्रोकी की मदद का मुद्दा भी उठाया.

इससे पहले हो रही चर्चा पक्ष-विपक्ष के सदस्यों की टोकाटाकी की वजह से दोपहर ढाई बजे तक के लिए स्थगित कर दी गई थी.

चर्चा

इमेज कॉपीरइट PTI

लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन ने इस विषय पर चर्चा के लिए ढाई घंटे का समय निर्धारित किया था.

चर्चा की शुरुआत कांग्रेस सांसद मल्लिकार्जुन खड़गे ने की. उन्होंने कहा कि वो चाहते हैं कि इस मुद्दे पर हुई चर्चा का जवाब ख़ुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी दें.

चर्चा के दौरान जब खड़गे ने वित्त मंत्री अरुण जेटली का नाम लिया तो, सत्ता पक्ष की ओर से किसी ने कुछ कहा. इस पर कांग्रेस सांसद हंगामा और नारेबाज़ी करने लगे. कांग्रेस सदस्य सत्ता पक्ष से माफ़ी की मांग कर रहे थे.

इससे पहले चर्चा के दौरान खड़गे ने पूछा कि मानवता के नाम पर ललित मोदी की मदद करने का दावा करने वाली विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने ये मदद क़ानून के मुताबिक़ क्यों नहीं की.

बुधवार को दोनों सदनों की कार्यवाही शुरू होते ही ललित मोदी और व्यापमं मुद्दे विपक्षी कांग्रेस के सदस्यों ने हंगामा कर दिया. इसे देखते हुए दोनों सदनों की कार्यवाही दोपहर तक के लिए स्थगित कर दी गई थी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं. )

संबंधित समाचार