अपने नाम के 'प्रदर्शन' पर केजरीवाल घिरे

केजरीवाल का नाम इमेज कॉपीरइट Kapil Mishra Twitter

दिल्ली के मुख्यमंत्री के रूप में अरविंद केजरीवाल के लिए यह पहला स्वतंत्रता दिवस था. लेकिन इस दिन भी वे विवादों में घिरे नज़र आए.

आम आदमी पार्टी के नेता कपिल मिश्रा ने बच्चों के बनाए 'अरविंद केजरीवाल' के नाम की तस्वीर ट्वीट की.

जल्दी ही 'अरविंद केजरीवाल' हैशटैग सोशल मीडिया में 'ट्रेंड करने लगा और लोगों ने उनके विरोध में बोलना शुरु कर दिया.

मामला इतना बढ़ गया कि आख़िर में केजरीवाल को ट्विटर के ज़रिए माफ़ी मांगनी पड़ी.

'यह ग़लत है'

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

केजरीवाल ने कहा, "स्वतंत्रता दिवस की खुशियां मनाने के दौरान कुछ स्कूली बच्चों ने मेरे नाम को लिख कर एक विज़ुअल रुप में दिखाया. मुझे इसका पता नहीं था. मुझे बताया गया कि जो भी मुख्य अतिथि होता है उनके नाम को ऐसे लिख कर दिखाना एक अभ्यास के तौर चला आ रहा है."

केजरीवाल ने आगे कहा, "मैं इस बात से सहमत हूं कि यह एक ग़लत दस्तूर है. मैं आगे इस अभ्यास को बंद करुंगा."

क्या था मामला?

इमेज कॉपीरइट Aam Aadmi Party Facebook

मुख्यमंत्री के तौर पर केजरीवाल को 15 अगस्त के दिन दिल्ली के छत्रसाल खेल मैदान में तिरंगा झंडा फहराना था. इस दौरान ख़ास परेड और कार्यक्रम का आयोजन किया गया था.

मैैदान में जो कार्यक्रम आयोजित किया गया था उसमें कई स्कूली छात्रों ने भाग लिया और स्टेडियम में ख़ास तरीके से बैठ कर 'अरविंद केजरीवाल' लिखा.

इमेज कॉपीरइट Aam Aadmi Party Facebook
Image caption केजरीवाल अपने घर के सामने स्वतंत्रता दिवस मनाते हुए.

इस पर सोशल मीडिया पर कई लोगों ने केजरीवाल को ग़लत बताया.

राकेश चौहाण पूछते हैं, "क्या यही है आपकी देशभक्ति?"

विनीत उप्रेती का कहना है, "नाम लिखने के मामले में केजरीवाल ने माफ़ी मांगी, जबकि वो देख रहे थे. ठीक वैसे ही जैसे उन्होंने किसान गजेंद्र की मौत के बाद मांगी, जबकि वो देख रहे थे."

इमेज कॉपीरइट PTI
Image caption अप्रैल 2015 में दिल्ली में आम आदमी पार्टी की रैली में किसान की आत्महत्या के मामले में अरविंद केजरीवाल ने कहा था कि मंच से पेड़ दूर होने के कारण वे अंदाज़ा नहीं लगा पाए थे कि किसान आत्महत्या कर रहा है.

अनिल भोला ने लिखा है कि 'हिटलर भी ऐसा ही किया करता था.'

जेपी मलकानी ने लिखा- क्या केजरीवाल को पद से इस्तीफ़ा नहीं दे देना चाहिए?

'फिर कहते हैं सॉरी'

केजरीवाल का माफ़ी मांगना भी कई लोगों को पसंद नहीं आया.

इमेज कॉपीरइट Reuters

एक्स सेकुलर नाम से एक ट्विटर हैंडल ने लिखा है- केजरीवाल कहते हैं उन्हें इसकी जानकारी नहीं थी, तो फिर वे इसे एक अभ्यास क्यों कहते हैं?

संदेश सामंत ने लिखा है- केजरीवाल हमेशा ग़लती करते हैं, फिर कहते हैं सॉरी.

प्रियंका चतुर्वेदी लिखती हैं- केजरीवाल के लिए सबसे आसान काम है माफ़ी मांगना. किसान आत्महत्या - माफ़ करें, बलात्कार - माफ़ करें, क़ानून व्यवस्था - माफ़ करें मैं नहीं भाजपा.

गीतीका ने लिखा है, "जुर्म के लिए अगर पकड़े जाओ, सॉरी बोलकर निकल आओ. यह केजरीवाल सर का फार्मूला है दोस्तों, यही असली का जुमला है."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉयड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार