'नीतीश-लालू के कारण बिहारी शब्द बना गाली'

  • 18 अगस्त 2015

लोक जनशक्ति पार्टी के सांसद चिराग पासवान का कहना है कि वे अपने पिता रामविलास पासवान की मर्ज़ी से ही शादी करेंगे.

बीबीसी हिंदी डॉट कॉम के ‘गूगल हैंगआउट’ में उन्होंने कहा कि उनके परिवार वाले जिस लड़की से शादी करने को कहेंगे, वे कर लेंगे.

इसके अलावा उन्होंने अपनी निजी जिंदगी, राजनीति, बिहार में होने वाले विधानसभा चुनाव और अन्य मुद्दों पर खुल कर बात की.

'नीतीश ने दिलचस्पी नहीं ली'

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

उन्होंने बिहार को विशेष पैकेज देने की प्रधानमंत्री की घोषणा पर कहा कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने तत्परता दिखाई होती तो यह पैकेज पहले ही मिल गया होता.

चिराग के मुताबिक़, "उन्होंने ख़ास पहल नहीं की तो प्रधानमंत्री ने ख़ुद इसका ऐलान कर दिया."

चिराग पासवान ने बिहार में अपने राजनीतिक प्रतिद्वंद्वियों लालू यादव और नीतीश कुमार के बारे में कहा कि उनकी वजह से ही बिहारी शब्द गाली बन गया है और इस वजह से ही उनकी पार्टी ने उन दोनों के दलों के ख़िलाफ़ लड़ने का फ़ैसला किया है.

'बिहारी शब्द गाली बन गया'

इमेज कॉपीरइट PTI

चिराग पासवान ने कहा कि वे चाहते तो मुंबई में ऐशो आराम की ज़िंदगी बिता सकते थे, पर वहां बिहारियों की हालत देख कर ही उन्होंने राजनीति में आने का मन बनाया.

चिराग राजनीति में आने से पहले फ़िल्म अभिनेता थे और उनकी एक फ़िल्म भी आई थी.

पासवान ने जाति आधारित राजनीति करने के आरोप को ख़ारिज करते हुए कहा कि उनका दल पिछड़ों के लिए काम करता है. उन्हें पिछड़ों का भला जिस पार्टी के साथ दिखता है, उसका समर्थन करते हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार