शिक्षा ऋण को आसान बनाने के लिए पोर्टल

  • 21 अगस्त 2015
छात्र इमेज कॉपीरइट THINKSTOCK

अगर आप एक छात्र हैं और आगे पढ़ाई करने के लिए आपको लोन की दरकार है तो अब आपके पास शिक्षा लोन लेने का एक आसान तरीका है.

सरकार ने एक नया एडुकेशन लोन पोर्टल लांच किया है.

इसके ज़रिए छात्र कई बैंकों में शिक्षा के लिए कर्ज़ का आवेदन भर सकते हैं, अपने आवेदन पर नज़र रख सकते हैं और इस कर्ज़ पर उपलब्ध तमाम स्कीमों का फ़ायदा भी उठा सकते हैं.

अब छात्रों को इस ऋण के लिए बैंक दर बैंक नहीं भटकना पड़ेगा.

बस www.vidyalakshmi.co.in पर लॉग ऑन कीजिए और सिर्फ एक फॉर्म भर कर कई बैंकों में ऋण के लिए आवेदन भर दीजिए.

वित्तमंत्री का वादा

इमेज कॉपीरइट PTI

वित्तमंत्री अरुण जेटली ने फरवरी में बजट भाषण के दौरान जो घोषणा की थी उसी के तहत इस पोर्टल को शुरू किया गया है.

उन्होंने अपने भाषण में छात्रों को शिक्षा ऋण और छात्रवृत्ति के लिए एक ही इलेक्ट्रॉनिक प्लेटफॉर्म बनाने की बात की थी.

उन्होंने कहा था, "हम ये सुनिश्चित करेंगे कि कोई भी छात्र पैसे की कमी के कारण उच्चशिक्षा से वंचित ना रहे."

इस पोर्टल को नेशनल सिक्योरिटीज़ डिपॉज़िटरी लिमिटेड ने वित्त मंत्रालय के वित्त सेवा विभाग, मानव संसाधन विकास मंत्रालय के उच्च शिक्षा विभाग और इंडियन बैंक्स असोसिएशन की मदद से बनाया है.

स्टेट बैंक ऑफ इंडिया, आईडीबीआई, कैनरा बैंक, पंजाब नेशनल बैंक जैसे 13 बैंक इस पोर्टल में शिक्षा ऋण देने के लिए पंजीकृत हैं.

इनमें से पांच बैंकों ने इस पोर्टल को अपने सिस्टम में एकीकृत कर लिया है ताकि छात्रों को ये जानकारी भी मिल सके कि उनके आवेदन पर क्या कार्यवाही हो रही है और वह किस चरण में है.

छात्र को पहले इस वेबसाइट पर रजिस्टर करना होगा और फिर ऋण के लिए एक सरल फॉर्म को भरना होगा.

अगर उन्हें अपने आवेदन पर हो रही कार्यवाही पर कोई शिकायत है तो वे यहीं उसे दर्ज़ कर सकते हैं.

छात्रवृत्ति का लिंक भी

इमेज कॉपीरइट

इस वेबसाइट पर राष्ट्रीय छात्रवृत्ति की वेबसाइट का लिंक भी दिया गया है. यहां पर छात्र को विभिन्न सरकारी विभागों में शिक्षा ऋण पर दी जा रही स्कीमों की जानकारी भी हासिल कर सकता है.

नेशनल सिक्योरिटीज़ डिपॉज़िटरी लिमिटेड के मुख्य कार्यकारी और प्रबंधन निदेशक गगन राय ने बताया कि आने वाले दिनों में इस पोर्टल पर दर्ज बैंकों की संख्या बढ़ाई जाएगी.

उन्होंने बताया कि सभी राज्यों के सरकारी बैंकों को इसमें शामिल किया जाएगा.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार