'रुपए को विदेशी मुद्रा भंडार से संभाल सकते हैं'

रघुराम राजन इमेज कॉपीरइट Reuters

भारतीय रिज़र्व बैंक के गवर्नर रघुराम राजन ने कहा है कि डॉलर के मुक़ाबले गिरते रुपए को संभालने के लिए विदेशी मुद्रा भंडार का इस्तेमाल किया जा सकता है.

क़रीब दो सालों में पहली बार भारतीय रुपया डॉलर के मुक़ाबले 66 के आंकड़े को पार कर गया है.

इसी वजह से आरबीआई गवर्नर की ओर से यह आश्वासन दिया गया है.

उन्होंने कहा कि आरबीआई के पास पर्याप्त विदेशी मुद्रा भंडार है जिसका इस्तेमाल किसी भी गंभीर स्थिति से निपटने के लिए किया जा सकता है.

सोमवार को चीन की अर्थव्यवस्था में कमज़ोरी के संकेतों को देखते हुए भारत सहित एशिया के बड़े बाज़ारों में गिरावट देखी गई.

पर्याप्त विदेशी मुद्रा भंडार

इमेज कॉपीरइट THINKSTOCK

वैसे राजन ने यह भी कहा कि येन और यूरो जैसी मुद्राओं के मुकाबले रुपया मज़बूत हुआ है और आरबीआई के पास पर्याप्त संसाधन है कि वह रुपये में आई अस्थिरता से निपट सके.

रिज़र्व बैंक के गवर्नर ने कहा कि अन्य उभरती अर्थव्यवस्थाओं के मुक़ाबले भारतीय अर्थव्यवस्था की स्थिति मज़बूत है.

उन्होंने इसके लिए चालू खाता घाटे में कमी, राजकोषीय घाटे में सुधार आने, मुद्रास्फ़ीति और विदेशी मुद्रा देनदारियों में कमी को ज़िम्मेदार बताया.

हालांकि उनका कहना है कि उभरते बाज़ारों को पुरानी निर्यात आधारित वृद्धि मॉडल की वजह से मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है.

इमेज कॉपीरइट AFP

राजन ने कहा कि तेल की क़ीमतें अभी एक या दो साल तक निचले स्तर पर बनी रह सकती हैं.

शेयर बाज़ार में गिरावट

भारतीय शेयर बाज़ार के अंतिम सत्र में 5 फ़ीसदी तक की गिरावट देखी जा रही है.

सेंसेक्स में क़रीब 1400 अंकों की गिरावट देखी गई और निफ़्टी 7,900 के स्तर से नीचे चला गया.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार