'बच्चों से बलात्कार डेढ़ सौ फ़ीसदी बढ़े'

  • 28 अगस्त 2015
बच्चों से बलात्कार, आंकड़ों में

भारत में पिछले पांच साल में बच्चों से बलात्कार के मामलों में 151 फ़ीसदी की बढ़ोत्तरी हुई है.

नेशनल क्राइम रिकॉर्ड्स ब्यूरो के आंकड़ों के अनुसार 2010 में दर्ज 5,484 मामलों से बढ़कर यह संख्या 2014 में 13,766 हो गई है.

इसके अलावा बाल यौन शोषण सरंक्षण अधिनियम (पोक्सो एक्ट ) के तहत देश भर में 8,904 मामले दर्ज किए गए हैं.

एनसीआरबी के अनुसार भारतीय दंड संहिता की धारा 354 के तहत महिला (बच्ची) की लाज भंग करने के इरादे से किए गए हमले के 11,335 मामले दर्ज किए गए हैं.

आंकड़ों में जानिए देश में बच्चों से बलात्कार और छेड़छाड़ के मामलों के बारे में.

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

बच्चों से बलात्कार के मामलों में मध्य प्रदेश सबसे ऊपर रहा और उसके बाद महाराष्ट्र और उत्तर प्रदेश रहे.

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

विशेषज्ञों के अनुसार पिछले चाल साल में बच्चों से बलात्कार के मामले बढ़ने की दो वजहें हैं- पहला कारण ये है कि लोग लोक लाज के भय से मामले दर्ज नहीं करवाते थे और दूसरा कारण है नया कानून.

बाल मनोचिकित्सक अमित सेन कहते हैं, " प्रतिष्ठा में दाग़ लगने की भावना कम होने के चलते भी बच्चों के शोषण और बलात्कार के मामले दर्ज होने की संख्या बढ़ी है, लेकिन यकीनन इसके मामले भी बढ़े हैं."

इसी तरह 2012 में आया पोक्सो और 2013 में आया अपराधिक कानून (संशोधन) अधिनियम भी बच्चों के बलात्कार के मामले दर्ज करने में सहायक बने.

संसद में पेश किए गए आंकड़ों के अनुसार अक्टूबर 2014 तक पोक्सो के तहत दर्ज 6,816 एफ़आईआर में से सिर्फ़ 166 में ही सज़ा हो सकी है. यह 2.4% से भी कमज़ोर दर है.

इसी तरह एनसीआरबी के अनुसार 2014 तक पांच साल में दर्ज मामलों में 83% लंबित थे जिनमें से 95% पोक्सो के मामले थे और 88% 'लाज भंग' करने के थे.

( इंडियास्पेंड की रिसर्च पर आधारित)

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार