'रामचरितमानस' हुई डिजिटल

narendra modi 1 इमेज कॉपीरइट PIB

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने दिल्ली में गोस्वामी तुलसीदास के महाकाव्य 'रामचरित मानस' का डिजिटल संस्करण लॉन्च किया.

ऑल इंडिया रेडियो ने 'रामचरितमानस' की डिजिटल सीडी तैयार की हैं.

कलाकारों के प्रयास की तारीफ़ करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि इन कलाकारों ने न सिर्फ संगीत साधना की है बल्कि संस्कृति साधना और संस्कार साधना की है.

उन्होंने विदेशों में जाकर बसने वाले भारतीयों की बात करते हुए कहा कि ऐसे भारतीय 'रामचरितमानस' अपने साथ लेकर विदेश गए और आज भी उनकी भावी पीढ़ियों ने विदेशों में भारतीय संस्कृति को ज़िंदा रखा है.

इमेज कॉपीरइट PIB

प्रधानमंत्री ने कहा, "हमारे पारिवारिक मूल्यों की दुनिया न सिर्फ सराहना करती है बल्कि उनसे ईर्ष्या भी करती है. 'रामचरितमानस' पारिवारिक मूल्यों की बात करता है. अगर कोई ओम् भी बोलता है तो बोलने के तरीके पर विवाद हो सकता है लेकिन 'रामचरितमानस' को लेकर कोई विवाद नहीं है."

14 लोगों ने मिलकर 20 से 22 सालों की ऑल इंडिया रेडियो की रिकॉर्डिंग को एक संगीतमय सूत्र में पिरोकर इस प्रस्तुति को तैयार किया है.

प्रधानमंत्री ने कहा कि उन्हें बताया गया कि ऑल इंडिया रेडियो के पास देशभर के विभिन्न कलाकारों की नौ लाख घंटों की रिकॉर्डिंग हैं जिन्हें सही तरीके से सहेजने की ज़रूरत है.

इस मौके पर सूचना प्रसारण मंत्री अरुण जेटली और प्रसार भारती बोर्ड के चेयरमैन सूर्यप्रकाश भी मौजूद थे.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार