पाक जेलों में बंद भारतीय सैनिकों के मसले पर सुनवाई

जिन ख़बरों पर आज हमारी नज़र रहेगी उनमें पाकिस्तान में बंद भारतीय सैनिक के मसले पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई के साथ साथ स्ट्रासबर्ग में प्रवासी संकट पर चर्चा करने के लिए यूरोपीय संसद के सत्र की शुरुआत अहम हैं.

इमेज कॉपीरइट AFP

भारत का सुप्रीम कोर्ट मंगलवार को पाकिस्तानी जेलों में बंद भारतीय सैनिकों के मसले पर सुनवाई करेगा.

इससे पहले एक सितंबर को अदालत ने पाकिस्तानी जेलों में बंद उन 54 भारतीय युद्ध बंदियों के बारे में केंद्र से पूछा था जो कि 1965 और 1971 की लड़ाई के दौरान पकड़े गए थे.

अदालत ने पूछा था कि वो अब ज़िंदा हैं भी या नहीं. इस पर सरकार के सॉलिसिटर जनरल रंजीत कुमार ने अदालत को बताया था कि उन्हें नहीं पता, क्योंकि पाकिस्तान उनकी मौजूदगी से लगातार इनकार कर रहा है.

अदालत का ये भी सवाल था कि इस मसले को अंतरराष्ट्रीय न्यायिक अदालत में क्यों नहीं उठाया जा सकता?

इस पर केंद्र ने अदालत को बताया था कि भारत और पाकिस्तान दोनों ही राष्ट्रमंडल देशों के सदस्य हैं.

इसलिए इसमें कानूनी बाधा आ सकती है. अदालत इस पर केंद्र से असहमत थी.

इमेज कॉपीरइट EPA

मोदी की उद्योगपतियों से बैठक

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मंगलवार को भारतीय उद्योग की प्रमुख हस्तियों के साथ बैठक करेंगे.

इस बैठक में वैश्विक आर्थिक परिदृश्य में भारत के लिए क्या अवसर हैं- इस विषय पर चर्चा होगी.

उच्च शिक्षा क़र्ज़

Image caption दिल्ली विश्वविद्यालय

दिल्ली सरकार मंगलवार को उच्च शिक्षा में ऋण देने की अपनी योजना की शुरुआत करेगी.

इस स्कीम के तहत कोई भी छात्र दिल्ली सरकार से बगैर किसी गारंटी के दस लाख तक का उच्च शिक्षा ऋण ले पाएगा.

आज इस स्कीम के तहत पहला चेक दिया जाएगा.

आईएमएफ़ प्रमुख ट्यूनीशिया में

इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष की प्रमुख क्रिस्टीन लागार्ड

अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष की प्रमुख क्रिस्टीन लागार्ड ट्यूनीशिया यात्रा पर हैं.

मंगलवार सुबह वे एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करेंगी.

इमेज कॉपीरइट
Image caption मिस्र के प्रधानमंत्री इब्राहिम महलाब

मिस्र के प्रधानमंत्री इब्राहिम महलाब भी ट्यूनीशिया के दौरे पर हैं.

वे भी पत्रकार सम्मेलन को संबोधित करेंगे.

मध्यपूर्व के संकट पर सम्मेलन

इमेज कॉपीरइट APTN
Image caption फ्रांस के राष्ट्रपति फ्रांसुआ ओलांद

फ्रांस के राष्ट्रपति फ्रांसुआ ओलांद मध्यपूर्व में नस्ली और धार्मिक हिंसा के पीड़ितों पर पेरिस में संयुक्त राष्ट्र के सम्मेलन का उद्घाटन करेंगे.

इस सम्मेलन में कई देशों के विदेश मंत्री भाग ले रहे हैं.

फ्रांस के राष्ट्रपति ओलांद बहरीन के शाह हमद बिन ईसा अल ख़लीफ़ा से भी मुलाकात करेंगे.

चार साल पहले शिया विद्रोह के कुचले जाने के बाद से बहरीन में हिंसा की घटनाएं बढ़ी हैं.

यूरोप में प्रवासियों की समस्या

इमेज कॉपीरइट Getty

हज़ारों प्रवासी बाल्कान से होते हुए ग्रीस पहुंचे हैं जिससे यूरोपीय संघ के सुरक्षा बलों, शरण देने की नीतियों और राजनेताओं पर ज़बरदस्त दबाव बन गया है.

हंगरी की राजधानी बुडापेस्ट में यूएनएचसीआर के निदेशक विंसेंट कोचेटेल हंगरी में प्रवासियों की स्थिति और समस्या पर संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करेंगे.

स्ट्रासबर्ग में प्रवासी संकट पर चर्चा करने के लिए यूरोपीय संसद का सत्र शुरू होगा.

एक दिन बाद यूरोपीय आयोग के अध्यक्ष ज्यां क्लॉड युंकर पूरे यूरोप में 120,000 शरणार्थियों के पुनर्वास की योजना का विवरण देंगे.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार