बिहारः छोटे दल पर बड़ी चुनौती

  • 10 सितंबर 2015
बिहार स्वतंत्र उम्मीदवार

बिहार चुनाव की तारीख़ों की घोषणा होने के साथ ही प्रचार की सरगर्मी तेज़ हो गई है.

राज्य के दो प्रमुख राजनीतिक गठबंधन अपनी रणनीति बनाने में व्यस्त हैं लेकिन छोटे दलों और स्वतंत्र उम्मीदवार उनके लिए अभी पहेली बने हुए हैं.

राज्य में पिछले विधानसभा और लोकसभा चुनाव में जीत का अंतर क्रमशः 12.42 प्रतिशत और 12.6 प्रतिशत था.

ऐसे में इस बार संभावित कांटे की टक्कर में ये अगर ऐसे उम्मीदवार 12 से 13 प्रतिशत वोट अपनी ओर खींचने में सफल हुए तो चुनाव नतीज़ों पर काफ़ी असर पड़ेगा.

पिछले विधानसभा चुनाव मे 56 ऐसी विधानसभा सीटें थीं जहाँ जीत का अंतर पांच प्रतिशत से भी कम रहा.

इनमें से 25 सीटें ऐसी थीं जहाँ छोटे दल और स्वतंत्र उम्मीदवार 15.38 प्रतिशत के औसत वोट के साथ शीर्ष तीन स्थानों पर रहे.

इन 25 सीटों में 18 स्वतंत्र उम्मीदवारों ने औसतन 14.56 प्रतिशत वोट, जबकि 7 सीटों पर छोटे दलों ने 17.19 प्रतिशत वोट हासिल किया.

( डाटामाइनएरिया से साभार)

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार