डेंगू से बच्चे की मौत के बाद 'आत्महत्या'

इमेज कॉपीरइट AP

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री जेपी नड्डा ने दिल्ली में एक बच्चे की डेंगू से हुई मौत और उसके बाद बच्चे के माता-पिता की आत्महत्या की ख़बरों की जांच के आदेश दे दिए हैं.

ट्विटर पर लिखे एक संदेश में उन्होंने लिखा, “बच्चे की डेंगू से मृत्यु और माता-पिता की आत्महत्या की मीडिया रिपोर्टों की जांच के आदेश दे दिए गए हैं. दोषियों को बख्शा नहीं जाएगा.”

शनिवार को मीडिया में छपी रिपोर्टों के मुताबिक लक्ष्मचंद्र और बबिता ने अपने सात साल के बच्चे अविनाश राउत की दिल्ली के एक अस्पताल में डेंगू से हुई मौत के बाद आत्महत्या कर ली थी.

मीडिया रिपोर्टों के अनुसार माता-पिता ने बच्चे के लिए दिल्ली के दो अस्पतालों में दाखिले की कोशिश की लेकिन उन्हें निराशा हाथ लगी.

रिपोर्टों के मुताबिक आखिरकार बच्चे को बत्रा अस्पताल में दाखिला मिल पाया लेकिन उसे बचाया नहीं जा सका.

माँ-बाप ने की आत्महत्या

इमेज कॉपीरइट AFP

दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने मूलचंद अस्पताल और मैक्स साकेत अस्पताल को नोटिस जारी किया है कि क्यों उन्होंने 'डेंगू से पीड़ित बच्चे को दाखिला' नहीं दिया.

पुलिस के मुताबिक छतरपुर में बच्चे के अंतिम संस्कार के बाद माता-पिता ने दक्षिणी दिल्ली में चौथी मंज़िल पर स्थित अपने किराए के मकान से कूदकर आत्महत्या कर ली.

रिपोर्टों के अनुसार लक्ष्मीचंद्र एक निजी कंपनी में काम करते थे जबकि बबिता गृहणी थी. अविनाश कक्षा 1 का छात्र था.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)