महिलाओं की सुरक्षा के लिए बना पेंडेंट

चिप लगा पेंडेंट 'सेफर' इमेज कॉपीरइट LEAF

गहने का सुरक्षा से क्या रिश्ता है? पर 'सेफर' नाम का यह गहना आपकी सुरक्षा को ध्यान में रख कर ही बनाया गया है.

कहने को तो यह मामूली सा पेंडेंट है. एक मणि स्टील के खांचे में फिट किया हुआ है और यह चेन से लटकता रहता है.

पर नीलम, पन्ना या गोमेद का बना यह पेंडेंट मामूली नहीं है.

मणि के पीछे एक चिप लगी रहती है जो एक ऐप से जुड़ी हुई होती है और यह ऐप गूगल मैप्स से जुड़ा रहता है.

तो इस तरह यह पेंडेंट हर समय यह बताता रहता है कि इस समय आप कहां हैं. इसे गूगल मैप्स पर आसानी से देखा जा सकता है और वहां पंहुचा जा सकता है.

'लीफ़' नामक कंपनी इस गहना यानी सेफर को बाज़ार में बेचती है.

पढ़ें विस्तार से

इमेज कॉपीरइट AP
Image caption 2012 में दिल्ली में हुए बलात्कार के बाद ज़बरदस्त विरोध प्रदर्शन हुआ.

'लीफ' के बिक्री विभाग के प्रमुख पारस बत्रा के मन में सबसे पहले विचार आया.

दिसंबर 2012 के बहुचर्चित दिल्ली बलात्कार कांड के बाद उन्होंने ऐसा कुछ बनाने की सोची जिससे लड़कियों की गतिविधियों पर नज़र रखी जा सके.

साल 2012 में 15 दिसंबर की रात एक बस में एक लड़की के साथ सामूहिक बलात्कार किया गया और उसके मित्र को बुरी तरह पीटा गया था. बाद में इलाज के दौरान उस लड़की की मौत हो गई. इस वारदात ने पूरी दिल्ली को झकझोर कर रख दिया था.

उन्होंने बीबीसी से कहा, "मैं दक्षिण दिल्ली के उसी मुनिरका इलाक़े में रहता हूं, जहां से उस लड़की ने बस पकड़ी थी. मैं उस वारदात से काफ़ी परेशान हो गया था और मेरे मन में आया कि लड़कियों की सुरक्षा के लिए कुछ करना चाहिए."

पारस बत्रा ने अपने मित्र चिराग कपिल से बात की. कपिल ने आयुष बंका, माणिक मेहता और अनिवाश बंसल के साथ मिल कर यह पेंडेंट तैयार किया.

वे कहत हैं, "पहले हमने एक ऐसे जैकेट के बारे में सोचा, जो ज़ोरदार झटके देता हो. पर दिल्ली की इस गर्मी में जैकेट भला कौन पहनता है? अंत में हमने गहने के बारे में सोचा."

हैंड गन

Image caption हैंड गन 'निर्भीक'

दिसंबर 2012 की उस वारदात के बाद महिलाओं की सुरक्षा को लेकर कई तरह की चीजें बनाई गईं.

हथियार बनाने वाली सरकारी कंपनी इंडियन ऑर्डनेंस फ़ैक्टरी ने 'निर्भीक' नामक एक छोटा सा हैंड गन तैयार किया.

0.32 कैलिबर के इस हैंडगन का वजन आधा किलो है और यह महिलाओं के पर्स में आसानी से समा सकता है.

चेन्नई में एअरोनॉटिकल इंजीनियरिंग के तीन छात्रों ने एक ऐसा ब्रा तैयार किया जो छूने पर 3800 किलोवाट का बिजली का झटका देता है.

बलात्कार विरोधी कपड़े भी बने जो तुरंत टेक्स्ट मैसेज भेज सकते हैं.

पुलिस ने तो 1,000 स्प्रे भी बांटे जो काली मिर्च के पाउडर का छिड़काव करता है.

'सेफर' की क़ीमत 3,500 रुपए रखी गई है. इसे अमरीका के लॉकहीड मार्टिन नेशनल इनोवेशन अवार्ड समेत कई अंतरराष्ट्रीय और राष्ट्रीय पुरस्कार मिल चुके हैं.

पैनिक बटन

इमेज कॉपीरइट AP

तकनीकी लेखक प्रशांत के रॉय के मुताबिक़ अमरीका, सिंगापुर और मलेशिया में इस तरह के पेंडेंट पहल से ही हैं.

उनका कहना है कि मोबाइल फ़ोन और पैनिक बटन पर भी काम हुआ है.

चिराग कपिल कहते हैं, "मोबाइल फ़ोन जैसी चीजों के साथ दिक्कत यह है कि वे बैग में रखे होते हैं और ज़रूरत पड़ने पर तुरंत इनका इस्तेमाल नहीं हो पाता है.

पारस बत्रा कहते हैं, "हम क्राउड फंडिंग के ज़रिए पैसे इकट्ठा कर रहे हैं. कुछ निवेशकों ने भी दिलचस्पी दिखाई है. हम चाहते हैं कि 'सेफर' पेंडेट हर महिला के पास हो."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार