10 दिनों के भीतर मिल जाएगा आयकर रिफंड

फ़ाइल फोटो

आयकर विभाग ने रिफंड की कार्यवाही महीनों के बजाय दिनों में पूरी करने की तैयारी कर ली है. विभाग अब महज 7 से 10 दिन की अवधि में ही प्रक्रिया पूरी कर रिफंड करदाताओं के खाते में भेज देगा.

समाचार एजेंसी पीटीआई ने विभाग के एक शीर्ष अधिकारी के हवाले से कहा है कि आयकर विभाग की तकनीकी एडवांस होने और रिटर्न को आधार से जोड़ने के कारण ऐसा संभव हो सका है.

'सत्यापन प्रक्रिया हुई आसान'

आयकर रिटर्न (आईटीआर) का सत्यापन 'आधार' या अन्य बैंक डेटाबेस से करने के विभाग के कदम को आईटीआर फाइल करने वालों से सकारात्मक प्रतिक्रिया मिली है.

इमेज कॉपीरइट THINKSTOCK

इससे कर अधिकारी आकलन वर्ष 2015-16 के लिए रिफंड प्रोसेस कर उसे बैंक खातों में 15 दिन से कम समय में भेजने में सफल रहे हैं.

इस प्रक्रिया से जुड़े विभाग के एक शीर्ष अधिकारी ने कहा, "नई इलेक्ट्रॉनिक सत्यापन ई-फाइलिंग प्रणाली करदाताओं के लिए अनुकूल साबित हुई है. इस कारण रिफंड एक सप्ताह से अधिकतम 10 दिन में करदाताओं के खातों में भेजने में विभाग सफल होगा." आयकर विभाग के ताजा आंकड़ों के अनुसार 7 सितंबर 2015 तक विभाग को इलेक्ट्रॉनिक रूप से भरे गए 2.06 करोड़ रिटर्न प्राप्त हुए. यह पिछले साल ऑनलाइन भरे गए 1.63 करोड़ रिटर्न के मुकाबले 26.12 प्रतिशत अधिक है.

आईटीआर भरने की आख़िरी तारीख 7 सितंबर थी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार