डालमिया का दामन और पांच बड़े विवाद

इमेज कॉपीरइट AP

दुनिया को अलविदा कहने वाले बीसीसीआई प्रमुख जगमोहन डालमिया बेशक क्रिकेट की दुनिया का एक बड़ा नाम थे, लेकिन उनके खाते में कई विवाद भी रहे.

सुनिए: क्रिकेट में पैसा लाने का मंत्र डालमिया ने ही दिया

कुछ विवाद तो ऐसे रहे जो भारतीय क्रिकेट ही नहीं अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में भी चर्चा का कारण बने.

विवादों का साया
1. पूरा विश्व क्रिकेट जगत तब दंग रह गया, जब जगमोहन डालमिया के कार्यकाल में साल 2000 में मैच फ़िक्सिंग प्रकरण सामने आया. जगमोहन डालमिया पर इस मामले को दबाने के आरोप लगे. लेकिन सीबीआई जांच में भारत के कप्तान मोहम्मद अज़हरूद्दीन और दक्षिण अफ़्रीका के कप्तान हैंसी क्रोनए के नाम सामने आए. डालमिया पर आरोप लगा कि अगर उन्होंने उस समय इस मामले में सख़्ती की होती तो ऐसी घटनाएं बार-बार नहीं होतीं.
2. डालमिया पर 1996 में हुए विश्व कप क्रिकेट टूर्नामेंट के आयोजन के दौरान वित्तीय गड़बड़ियों के आरोप लगे. यह मामला क़रीब तीन करोड़ रुपए का माना गया. यहां तक कि 2006 में उन्हें बीसीसीआई से बाहर भी कर दिया गया. साल 2008 में उन्हें मुंबई पुलिस ने गिरफ़्तार भी किया. इसके बाद वो सुप्रीम कोर्ट गए, जहां उनके ख़िलाफ़ कोई सबूत नहीं मिला. लेकिन इससे उनकी छवि बेहद ख़राब हुई.
3. साल 1996 में हुए विश्व कप के टेलीविज़न अधिकार मार्क मैसकरहेन ने हासिल किए. जगमोहन डालमिया पर आरोप लगा कि उन्होंने उनसे अंडर हैंड पैसे लिए.
4. साल 2001 में अजीब क़िस्सा हुआ जब भारत के सचिन तेंदुलकर पर आईसीसी ने दक्षिण अफ़्रीका के ख़िलाफ़ खेले गए दूसरे टेस्ट मैच के पांचवें और अंतिम दिन गेंद को ख़राब करने के आरोप लगाए. लेकिन बीसीसीआई ने आईसीसी का विरोध किया. तत्कालीन अध्यक्ष जगमोहन डालमिया ने आख़िरी टेस्ट मैच से मैच रैफ्री माइक डेनिस को हटाने की मांग की.
5. जिस तरह बीसीसीआई के पूर्व अध्यक्ष एन श्रीनिवासन पर पद के दुरुपयोग और निरंकुश होने के आरोप लगे, कुछ लोग उसकी शुरुआत जगमोहन डालमिया से ही मानते हैं. कहा जाता है कि उनके सामने किसी की नहीं चलती थी. यहां तक कि बोर्ड के पदाधिकारियों और खिलाड़ियों को इसलिए फ़ायदा पहुंचाया जाता था ताकि वह उनके ख़िलाफ़ ना बोलें.

योगदान

इमेज कॉपीरइट AFP

विवाद अपनी जगह हैं, लेकिन अगर आज बीसीसीआई दुनिया की सबसे अमीर खेल संस्थाओं में से एक है तो बहुत से जानकार इसका श्रेय बहुत हद तक डालमिया को ही देते हैं.

कब कब क्या हुआ
जगमोहन डालमिया 1979 में पहली बार बीसीसीआई से जुड़े.
भारत ने जब 1983 में पहली बार विश्व कप जीता, तब डालमिया बीसीसीआई के कोषाध्यक्ष बने.
डालमिया 2001 में पहली बार बीसीसीआई के अध्यक्ष बने.
वो 1997 से 2000 तक अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) के अध्यक्ष भी रहे.
उन्होंने 1987 में विश्व कप का भारत और पाकिस्तान में संयुक्त रूप से आयोजित करवाया.
साल 1996 में हुए विश्व कप का आयोजन भारत, पाकिस्तान और श्रीलंका ने संयुक्त रूप से किया.
एन श्रीनिवासन को बीसीसीआई के अध्यक्ष पद से हटाए जाने के बाद जगमोहन डालमिया 2015 में एक बार फिर बीसीसीआई प्रमुख बने.

(बीबीसी हिंदी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार