भारत ने नेपाल से राजदूत को दिल्ली बुलाया

नेपाल में विरोध प्रदर्शन इमेज कॉपीरइट BRIJ KUMAR YADAV
Image caption नेपाल के तराई इलाक़ो में संविधान के विरोध में व्यापक प्रदर्शन हुए हैं.

नेपाल में नए संविधान के विरोध में हुई हिंसा के बाद भारत ने काठमांडू से अपने राजदूत को आपात वार्ता के लिए दिल्ली बुलाया है.

भारतीय सीमा से सटे तराई इलाक़े में संविधान के विरोध में हुई हिंसा में अब तक चालीस से ज़्यादा लोग मारे जा चुके हैं.

दक्षिणी नेपाल के तराई इलाक़ों में नेपाल की क़रीब आधी आबादी रहती है.

नेपाल की तराई में रह रहे लोग पिछले 39 दिनों से हड़ताल पर हैं.

भारत की सीमा से सटे इन इलाक़ों में रह रहे इन लोगों का कहना है कि नेपाल के नए संविधान में उनके अधिकारों में कटौती कर दी गई है.

रविवार को संविधान लागू होने के बाद से विरोध प्रदर्शन और तीव्र हो गए हैं.

तनाव और हिंसा

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption नेपाल के राषट्रपति रामबरन यादव ने रविवार को नेपाल का नया संविधान राष्ट्र को समर्पित किया था.

तराई के अधिकांश ज़िलों में कर्फ़्यू और निषेधित क्षेत्र घोषित कर दिया गया है.

इससे लोगों को काफ़ी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है.

आधिकारिक आंकड़ों के मुताबिक़ इस आंदोलन में अबतक 46 से अधिक मधेशियों की मौत हो चुकी है.

भारत ने नेपाल सरकार को संविधान को टालने के लिए मनाने की कोशिशें की थीं.

भारत का कहना था कि नेपाली समाज के सभी वर्गों के बीच राजनीतिक सहमति बनना ज़रूरी है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं. )

संबंधित समाचार