'धर्म और पर्यटन का साथ खिचड़ी और घी जैसा'

  • 23 सितंबर 2015
पर्यटक इमेज कॉपीरइट AFP

भारत सरकार ने अंतरराष्ट्रीय पर्यटकों को लुभाने के लिए आध्यात्मिक पर्यटन को प्राथमिकता देने का फ़ैसला किया है.

केंद्रीय पर्यटन मंत्री महेश शर्मा कहते हैं कि आध्यात्म भी पर्यटन की एक ताक़त है.

जिन क्षेत्रों को आध्यात्मिक पर्यटन के लिए चुना गया है उनमे 'कृष्णा सर्किट, रामायण सर्किट, सूफ़ी सर्किट और जैन सर्किट' शामिल हैं.

महेश शर्मा कहते हैं कि धर्म और पर्यटन का साथ 'खिचड़ी और घी' जैसा है.

महेश शर्मा ने बीबीसी हिंदी को बताया कि आध्यात्मिक पर्यटन, जिसे हम 'स्पिरिचुअल टूरिज़्म' भी कह सकते हैं, दुनिया भर में प्रचलित है.

केंद्रीय मंत्री के मुताबिक़, "आज कैथोलिक धर्म का गढ़ मोने जाने वाले वैटिकन सिटी के अंदर लाखों, करोड़ों लोग आते हैं. हज के लिए लोग मक्का-मदीना जाते हैं. इस तरफ़ अब हमने भी ध्यान दिया है. विशेष तौर पर धार्मिक स्थानों पर सफ़ाई और मूलभूत सुविधाएं देने का फ़ैसला किया है."

मुहिम

पर्यटन विभाग ने धार्मिक स्मारकों में सफ़ाई और आम सुविधाओं के लिए 'स्वच्छ स्मारक, स्वच्छ पर्यटक' के नाम से एक मुहिम शुरू की है जिसके अंतर्गत 25 प्रसिद्ध स्मारक चुने गए हैं.

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption वाराणसी के घाट

महेश शर्मा के अनुसार, "उत्तराखंड, वाराणसी और अयोध्या में ये मुहिम शुरू की जा चुकी है."

भारत का दुनिया के पर्यटन उद्योग में योगदान एक प्रतिशत से भी कम है.

महेश शर्मा इस बात पर चिंता जताते हैं लेकिन साथ ही कहते हैं कि पिछले साल के मुक़ाबले में इस साल पर्यटन 10 प्रतिशत से अधिक बढ़ा है. इसके इलावा इसका सकल घरेलू उत्पाद में योगदान भी बढ़ा है.

वो कहते हैं, "हर साल पर्यटन से देश को लगभग 1 लाख 23 हज़ार करोड़ रुपये की विदेशी मुद्रा मिलती है, जो देश का 6.8 प्रतिशत सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) का हिस्सा है."

विदेशी पर्यटकों को भारत में आने में आसानी हो इसके लिए पर्यटन मंत्रालय ने 150 देशों में ई-वीज़ा शुरू करने का फ़ैसला किया था.

महेश शर्मा के अनुसार, उनमें से 113 देशों में ई-वीज़ा की सुविधा शुरू कर दी गई है.

रेप की घटनाएं

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption भारत में विदेशी पर्यटक

विदेशी महिला पर्यटकों के साथ बलात्कार के मामलों पर उन्होंने स्वीकार किया कि पर्यटन के नज़रिए से देखें तो इस तरह की घटनाओं के कारण देश सालों पीछे चला जाता है.

पर्यटन मंत्री ने कहा कि महिला पर्यटकों की सुरक्षा के लिए सरकार ने कुछ क़दम उठाए हैं.

उन्होंने कहा कि इससे निपटने के लिए ‘इन्क्रेडिबल इंडिया हेल्पलाइन’ बनाई गई है. यह हेल्पलाइन फ़िलहाल केवल अंग्रेज़ी और हिन्दी में है, बाद में यह 12 भाषाओँ में उपलब्ध होगी.

मेडिकल टूरिज़्म की ओर भी ध्यान

इमेज कॉपीरइट Getty

भारत सरकार ने चिकित्सा पर्यटन या मेडिकल टूरिज़्म सालों पहले शुरू किया था. अब ये मुहिम असरदार नहीं रही.

महेश शर्मा ने कहा कि इस तरफ़ उनकी सरकार का ख़ास ध्यान है और वो इसे बढ़ाने के लिए कई ठोस क़दम उठा रहे हैं.

उनके अनुसार, ''भारत में इलाज कराने वालों की संख्या कम नहीं हुई है लेकिन ज़रूरत इस अभियान को मज़बूती देने की है.''

विदेश में पर्यटन विभाग के 14 केंद्र हैं जिनका इस्तेमाल मेडिकल टूरिज़्म को बढ़ाने के लिए किया जाएगा.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार