अरबपति शिविंदर चले अध्यात्म की ओर

फोर्टिस इमेज कॉपीरइट fortishealthcare.com
Image caption फोर्टिस हैल्थकेयर के एग्ज़ीक्यूटिव वाइसचेयरमैन शिविंदर सिंह

फोर्टिस हैल्थकेयर के कार्यकारी वाइस चेयरमैन शिविंदर मोहन सिंह अपना पद छोड़ कर अध्यात्मिक और दार्शनिक संस्था राधास्वामी सत्संग ब्यास में शामिल हो रहे हैं.

कंपनी के एक वक्तव्य के मुताबिक, कंपनी के सह संस्थापक सिंह एक जनवरी 2016 से कंपनी के गैर कार्यकारी उपाध्यक्ष बन जाएंगे

समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक कंपनी छोड़ते हुए शिविंदर सिंह ने कहा, "फोर्टिस की स्थापना और इसका संचालन करने में करीब दो दशक बिताने के बाद लोगों की ज़िंदगी बचाने और उन्हें संपन्न बनाने का हमारा मिशन अब मेरी ज़िंदगी का अभिन्न अंग बन गया है."

"वक्त के साथ साथ इस मिशन ने मुझे समाज की सीधी सेवा करने के लिए प्रेरित किया ताकि जो मैंने कमाया है उसका कुछ अंश मैं समाज को लौटा सकूं."

'सेवा' का अनुरोध

सिंह ने कहा कि उन्होंने अमृतसर में राधास्वामी सत्संग ब्यास के मुख्यालय में 'सेवा' करने का अनुरोध किया था.

इमेज कॉपीरइट fortidhealthcare.com

समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक, सिंह ने बताया कि वह खुशक़िस्मत हैं कि उनके अनुरोध को स्वीकार कर लिया गया है और फोर्टिस में अपनी ज़िम्मेदारियां सौंप कर वे डेरा स्थित ब्यास के मुख्यालय चले जाएंगे.

समाचार एजेंसी पीटीआई के अनुसार, अपने छोटे भाई के इस फैसले का स्वागत करते हुए फोर्टिस के कार्यकारी अध्यक्ष मालविंदर सिंह ने कहा, "ऐसा अक़सर नहीं होता कि किसी को समाज की सेवा के प्रति प्रतिबद्ध होने का मौका मिले. मुझे खुशी है कि शिविंदर ज़िंदगी के इस मोड़ पर ये फैसला ले रहे हैं."

नब्बे के दशक के आखिर में शिविंदर ने अपने बड़े भाई मालविंदर मोहन सिंह के साथ फोर्टिस हैल्थकेयर की शुरुआत की थी.

2008 में सिंह बंधुओं ने रैैनबैक्सी में अपने स्टॉक को जापान की प्रमुख दवा कंपनी दाइची संक्योन को बेच दिया था.

फिलहाल फोर्टिस हैल्थकेयर की शाखाएं भारत, दुबई, मॉरिशस और श्रीलंका में काम कर रही हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार