ऑस्कर पर रवैल के आरोप ग़लत: अमोल पालेकर

  • 25 सितंबर 2015
फ़िल्म 'कोर्ट' का एक दृश्य. इमेज कॉपीरइट court film

ऑस्कर पुरस्कार के लिए मराठी फ़िल्म 'कोर्ट' को भेजे जाने के फ़ैसले पर जूरी अध्यक्ष अमोल पालेकर और इसके एक सदस्य राहुल रवैल के बीच मतभेद खुल कर सामने आ गए हैं.

राहुल रवैल ने आरोप लगाया था कि 'कोर्ट' फ़िल्म के चुनाव के दौरान पारदर्शिता नहीं बरती गई.

लेकिन बीबीसी से हुई बातचीत में अमोल पालेकर ने इन आरोपों को इंकार कर दिया. उन्होंने हंसते हुए कहा, "अगर मैने ग़लती की है तो जूरी के बाकी सदस्यों ने मेरे ख़िलाफ़ आवाज़ क्यों नहीं उठाई? सिर्फ राहुल रवैल को ही तकलीफ़ क्यों है?"

अमोल ने आगे कहा, "ऑस्कर के लिए फ़िल्म चुनते वक़्त विवाद होना कोई नई बात नहीं हैं, लेकिन किसी ने इस मुद्दे को अब तक इस तरह उछाला नहीं था."

'वोटिंग को लेकर गड़बड़ी'

इमेज कॉपीरइट Getty
Image caption ऑस्कर पुरस्कार

राहुल रवैल का आरोप है, "फ़िल्म के चुनाव के दौरान वोटिंग को लेकर गड़बड़ी हो रही थी, वोटों की संख्या को लेकर गलत घोषणा की जा रही थी."

रवैल ने यह भी कहा कि अमोल पालेकर पर उन्हें बिलकुल भरोसा नहीं था, इसलिए उन्होंने दोबारा वोटिंग करवाने की मांग की जिसे पालेकर ने नामंजूर कर दिया.

इमेज कॉपीरइट CHIRANTANA BHATT

जबकि अमोल पालेकर का कहना है कि उनके 47 साल के करियर में आज तक किसी ने इस तरह के आरोप नहीं लगाए.

जूरी को 'कोर्ट', 'बाहुबली' और 'बजरंगी भाईजान' फ़िल्मों के बीच किसी एक को ऑस्कर के लिए चुनना था.

इससे पहले साल 2009 में भी मराठी फ़िल्म 'हरिशचन्द्रा ची फ़ैक्ट्री' को ऑस्कर के लिए चुना गया था.

रवैल ने विरोध जताते हुए अपने पद से इस्तीफ़ा दे दिया है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार