आरके सिंह के असंतोष को शत्रुघ्न का सहारा

आर के सिंह इमेज कॉपीरइट PTI

बिहार चुनाव से पहले भारतीय जनता पार्टी में पार्टी के अंदर से ही विरोध के स्वर सुनाई देने लगे हैं.

बिहार के आरा से पार्टी के सांसद और पूर्व आईएएस अधिकारी आरके सिंह ने ये बयान देकर नए विवाद को जन्म दे दिया कि पार्टी अपराधियों को टिकट देती है.

आरके सिंह के बयान का समर्थन किया है भाजपा सांसद शत्रुध्न सिन्हा ने. शत्रुघ्न सिन्हा पिछले कुछ समय से पार्टी के ख़िलाफ़ खुल कर बोल रहे हैं और उन्होंने कई मुद्दों पर पार्टी लाइन से अलग राय रखी है.

पूर्व गृह सचिव सिंह ने कहा था कि टिकट बंटवारे को लेकर कार्यकर्ताओं में भयंकर असंतोष है.

उन्होंने कहा, "आप अपराधियों और पार्टी के बाहर से आए लोगों को टिकट देंगे तो असंतोष तो होगा ही."

सिंह ने सवाल किया कि अगर टिकट बांटने में पारदर्शिता नहीं बरती जाएगी तो भाजपा और लालू प्रसाद यादव इत्यादि में क्या अंतर रह जाएगा.

इमेज कॉपीरइट AFP

शत्रुघ्न सिन्हा ने भी आरके सिंह के सुर में सुर मिलाया है.

सिन्हा ने कहा, "आर के सिंह आम सांसद नहीं, ख़ास सांसद हैं. उनकी बहुत इज़्ज़त है. वो चंद बेदाग़ छवि के नेताओं में से एक हैं."

उन्होंने आगे कहा, "अगर आरके सिंह ने कुछ कहा है तो वह निश्चित तौर पर सही होगा. उनके पास सबूत होंगे, नहीं तो वो ऐसा हर्गिज नहीं कहते."

'पैसे लेकर टिकट'

आरके सिंह ने कहा, "अपराधियों को टिकट देकर बिहार को साफ प्रशासन कैसे दिया जा सकता है. मैने ऐसी शिकायतें सुनी हैं कि पैसे लेकर टिकट दिए गए हैं."

भाजपा प्रवक्ता नलिन कोहली ने सिंह के आरोपों को खारिज करते हुए कहा कि पार्टी में टिकट का फ़ैसला लोकतांत्रिक तरीके से केंद्रीय चुनाव समिति और संसदीय बोर्ड करता है.

उधर भारतीय जनता पार्टी के बिहार इकाई के प्रवक्ता डॉक्टर अजफर शम्सी ने बीबीसी से बातचीत में आरके सिंह के आरोपों को खारिज किया.

उन्होंने कहा, ‘‘टिकट बंटवारे में कार्यकर्ताओं की उपेक्षा नहीं हुई है. जिताऊ उम्मीदवारों को टिकट दिया गया है.’’

'समर्पित कार्यकर्ताओं को भी टिकट मिले हैं'

इमेज कॉपीरइट Prashant Ravi

अजफर के मुताबिक कार्यकर्ता लाखों हैं. ऐसे में जो उम्मीदवार नहीं बन पाए हैं उनकी नाराजगी स्वाभाविक है. लेकिन समय के साथ यह नाराजगी दूर हो जाएगी.

वहीं पैसे लेकर टिकट बांटने और अपराधी छवि के लोगों को उम्मीदवार बनाए जाने के आरोप पर भाजपा प्रवक्ता का कहना है, ‘‘पैसे लेकर टिकट बांटने के आरोप भी गलत है. साधारण पृष्ठभूमि वाले लेकिन समर्पित कार्यकर्ताओं को भी टिकट मिले हैं. भाजपा कभी अपराधियों को प्रश्रय नहीं देती है.’’

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार