जीतनराम मांझी ने दूसरी सीट से भी पर्चा भरा

  • 26 सितंबर 2015
मांझी इमामगंज इमेज कॉपीरइट VED

बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री जीतनराम मांझी ने एक और सीट इमामगंज के लिए नामांकन दाखिल किया.

नामांकन दाखिल करने के बाद उन्होंने इमामगंज में एक चुनावी सभा भी की.

इस सुरक्षित सीट पर उनका मुकाबला जनता दल यूनाइटेड के उदय नारायण चौधरी से होगा. बिहार विधानसभा अध्यक्ष चौधरी इमामगंज से ही विधायक हैं.

मखदूमपुर से भी लड़ेंगे मांझी

इमेज कॉपीरइट VED

इसके पहले मांझी ने 21 सितंबर को मखदुमपुर से नामांकन दाखिल किया था जहां से 2010 में वे विधायक चुने गए थे.

पिछले रविवार को अपने सरकारी आवास पर एक प्रेस कांफ्रेंस में मांझी ने इमामगंज से भी चुनाव लड़ने की ख़्वाहिश ज़ाहिर की थी.

दरअसल मांझी की पार्टी हिंदुस्तानी आवाम मोर्चा को एनडीए में सीटों को लेकर हुए समझौते के तहत पहले जो 20 सीटें मिली थीं उनमें इमामगंज की सीट शामिल नहीं थी.

राजनीतिक अदावत

इमेज कॉपीरइट VED

नामांकन के साथ ही मांझी उदय नारायण चैधरी के साथ अपनी राजनीतिक लड़ाई को चुनावी अखाड़े में ले आए हैं. इस लड़ाई की शुरुआत इस साल फरवरी में हुई थी.

मांझी ने फरवरी में जदयू से बगावत करने के बाद अपने पास बहुमत होने का दावा किया था. ऐसे में विधानसभा अध्यक्ष की भूमिका महत्त्वपूर्ण हो गई थी.

तब खुद को सदन का नेता बताते हुए मांझी ने अपने एक समर्थक विधायक को जदयू का सचेतक बनाया था.

आरोप

इमेज कॉपीरइट VED

तब स्पीकर ने न केवल नीतीश कुमार को जेडीयू विधायक दल के नेता के तौर पर मान्यता दी थी बल्कि मांझी के पार्टी सचेतक संबंधी फैसले को भी नहीं माना था.

स्पीकर के ऐसे ही कुछ फैसलों के कारण मांझी ने उन पर पक्षपात करने का आरोप लगाया था. साथ ही तब मांझी के आशंका भी जताई थी कि विधानसभा में उनकी जान को खतरा है.

मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा देने के बाद मांझी ने ऐलान किया था कि वे चौधरी के स्पीकर रहते विधानसभा में नहीं जाएंगे. मांझी ने ऐसा किया भी.

हालांकि माना जाता है मांझी ने ऐसा इस वजह से किया था क्योंकि वे मुख्यमंत्री पद से हटने के बाद सामान्य विधायक के रूप में सदन की कार्यवाही में शामिल नहीं होना चाहते थे.

चौधरी भी हैं महादलितों के नेता

मांझी की तरह उदय नारायण चौधरी भी महादलितों के नेता हैं. जदयू के महत्त्वपूर्ण नेता चौधरी एक चुनाव को छोड़ 1990 से लगातार जीत दर्ज करते आ रहे हैं.

2010 के चुनाव में उन्हें राष्ट्रीय जनता दल के उम्मीदवार रौशन कुमार से कड़ी टक्कर मिली थी. तब वे करीब केवल बारह सौ मतों से ही जीत दर्ज कर पाए थे.

चौधरी वर्तमान पंद्रहवीं विधानसभा के साथ-साथ चौदहवीं विधानसभा के भी अध्यक्ष रहे थे. साथ ही वे लालू प्रसाद यादव के मंत्रिमंडल का भी हिस्सा थे.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार