इलेक्ट्रिक ऑडी कार, 131 मील की रफ़्तार

इमेज कॉपीरइट Audi

पिछले दिनों जर्मनी के फ़्रैंकफ़र्ट मोटर शो के दौरान ऑडी ने अपनी इलेक्ट्रिक स्पोर्ट यूटिलिटी व्हिकल (एसयूवी) ई-ट्रॉन क्वाट्रो का कॉन्सेप्ट पेश किया.

हाल में अमरीकी कार निर्माता टेसला की इलेक्ट्रिक एसयूवी की भी बेहद चर्चा हुई, इसने 29 सितंबर को अपना मॉडल एक्स शोरूम में पेश किया है.

लेकिन उससे पहले ऑडी ने बाज़ार में अपनी इलेक्ट्रिक एसयूवी की ख़बर दी और बताया कि इस कांसेप्ट कार का उत्पादन 2018 से होने लगेगा.

फ़्रैंकफ़र्ट ऑटो शो के दौरान इसकी बहुत चर्चा रही और ज़्यादातर लोगों की नज़र में, बनने के बाद ये एक बेमिसाल कार हो सकती है.

ऑडी के व्हिकल कांसेप्ट्स के वाइस प्रेसीडेंट राफ़ गेरहार्ड विल्नर ने बताया कि कार को तैयार करने में उम्मीद से कम समय लगा है और इसकी एक वजह यही है कि इसमें पहले से तैयार पार्ट्स को इस्तेमाल किया गया है. इसमें सस्पेंशन और स्टीयरिंग से जुड़ें कॉम्पोनेंट शामिल हैं.

इस कार को ऑडी की बड़ी कार क्यू 7 और बेंटली की शानदार कार बेंटयगा के साथ पेश किया गया. इन बेहतरीन कारों के बीच में ई-ट्रॉन अपने नएपन की वजह से चर्चा में रही.

स्लीक-हैंडसम कार

इस कार की खासियतों में एक्टिव एयरो ट्रिक्स भी शामिल हैं. इसका ड्रैग कॉफिशिएंट (हवा में कार की मौजूदगी से होने वाला असर, जो एयरोडायनामिक्स को प्रभावित करता है) महज 0.25 है.

इसके अलावा इस कार में ऑर्गेनिक रोशनी देने वाले डायोड लगे होंगे. ये तकनीक वो है जिसके मुताबिक बेहद पतली फ़िल्म इलेक्ट्रिक चार्ज से रोशनी देती है और इसको काटकर किसी भी शेप में लगाया जा सकता है और ऑडी के चार रिंग्स वाली चमकने वाली फ़्रंट ग्रिल के साथ भी ऐसा ही होगा.

ई- ट्रॉन की इस कार को आप स्लीक और हैंडसम भी कह सकते हैं. हालांकि इसका बाहरी आवरण काफी हद तक क्यू 5 और क्यू 7 से मिलता जुलता है.

लेकिन ये कार अंदर से काफी बदली हुई है. इसमें 95 किलोवाट प्रति घंटे की क्षमता वाली लिथियम ऑयन की बैटरी का इस्तेमाल होता है जिसकी बदौलत यह कार 310 मील तक चल सकती है.

इस बैटरी को नए सिरे से चार्ज किया जा सकता है, प्लग इन के जरिए भी और वायरलेस इंडक्शन के जरिए भी. ऑडी ऐसे प्रयास कर रही है कि यह कार पार्किंग में पार्क होने के साथ ही खुद से चार्ज होने लगे. लेकिन इसके लिए गैराज की फर्श में एक चार्जिंग प्लेट फिक्स कराना होगा.

इसकी छत पर सोलर पैनल भी लगा हुआ है, जिससे पर्याप्त रोशनी वाले दिनों में बैटरी अपने आप चार्ज होती है.

131 मील प्रति घंटे की रफ़्तार

वैसे ई-ट्रॉन क्वाट्रो रफ़्तार में भी कम नहीं है. चार चक्कों को खींचने के लिए तीन मोटर लगे हैं जिनकी संयुक्त क्षमता 503 हॉर्स पॉवर की है और यह 590 पाउंड प्रति फीट का टॉर्क उत्पन्न कर सकता है.

कार शून्य से 62 मील प्रति घंटे की रफ़्तार तक महज 4.6 सेकेंड में पहुंच सकती है. इसकी अधिकतम गति 131 मील प्रति घंटे तक की है.

कार की बैटरी 480 वोल्ट की रैपिड चार्जिंग क्षमता से चार्ज होती है, लिहाजा पूरी बैटरी 50 मिनट में चार्ज हो जाती है.

ई- ट्रॉन क्वाट्रो की कार क्यू 6 जैसी ही दिखेगी लेकिन अपरंपरागत तरीकों से चलेगी. यह इलेक्ट्रिक तो है ही, साथ में प्लग-इन के ज़रिए इसे हाइब्रिड भी बनाया गया है जिसका इस्तेमाल करके आप ईंधन या इलेक्ट्रिक में जिसका चाहें, इस्तेमाल कर सकते हैं.

क़ीमत ज़्यादा नहीं होगी

इस कार की कीमत के बारे में विल्नर कहते हैं, "क़ीमत से आप निराश नहीं होंगे." दरअसल ऑडी को ये भी ख़्याल रखना होगा कि प्रतिद्वंदी कंपनियां भी इलेक्ट्रिक मॉडल की कारों को पेश करने की कोशिशों में जुटी हुई हैं.

पोर्श की इलेक्ट्रिक क्यान एस-हाइब्रिड से इसे बड़ी चुनौती मिल सकती है. इसके अलावा मर्सिडीज़ बेंज़ और बीएमडब्ल्यू भी अपने अपने इलेक्ट्रिक मॉडल की कार को विकसित करने में जुटे हैं.

लेकिन फ़्रैंकफ़र्ट मोटर शो में ऑडी की ई-ट्रॉन कार का ही जलवा दिखा.

अंग्रेज़ी में मूल लेख यहाँ पढ़ें जो बीबीसी ऑटोस पर उपलब्ध है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार