'जो बचाने आए वो भी हिन्दू ही थे'

Image caption अख़लाक़ की मां गोमांस खाने को अफ़वाह बताती हैं

उत्तर प्रदेश के दादरी इलाक़े के बिसाहड़ा गाँव में - जो दिल्ली से लगभग सटा है, दूर-दूर तक वीरानी छाई हुई है.

दुकानें बंद हैं और लोग सड़कों से नदारद. सरकारी अधिकारियों, पुलिस और मीडिया के लोगों के जमावड़े के बीच अख़लाक़ अहमद का घर है जहाँ मातम का माहौल है.

सोमवार को गोमांस खाने की अफ़वाह के बाद हुई हिंसा में इस गाँव के अख़लाक़ अहमद की पीट पीटकर हत्या कर दी गई थी. उनके बेटे ज़ख़्मी हैं और उसकी हालत चिंताजनक बनी हुई है.

अख़लाक की माँ असग़री उस घड़ी को याद कर बिलख उठती हैं जिस वक़्त कई लोगों ने उनके घर पर एक साथ हमला कर दिया था.

असग़री कहती हैं, "गाँव वालों ने बहुत बुरा किया हमारे साथ. बिना क़सूर, बिना ग़लती के. आजतक हमारा झगड़ा तक नहीं हुआ किसी से. पता नहीं हमें क्यों मारने को आए. अब यह अफ़वाह उड़ाई कि गो हत्या की है. जो मांस रखा हुआ था वो बकरे का था."

'गांव छोड़ देंगे'

Image caption पंकज कहते हैं कि जब तक लोग कुछ समझ पाते, तब तक देर हो चुकी थी

कहा जा रहा है कि पास के ही मंदिर से किसी ने माइक से ऐलान किया था कि अख़लाक के घर गोमांस खाया जा रहा है.

मंदिर के पास के ही रहने वाले पंकज कुमार का कहना है कि माइक की आवाज़ सुनकर जब तक वो घर से बहार निकल पाते, तब तक एक बड़ा हुजूम अख़लाक के घर की तरफ़ जा चुका था.

अख़लाक़ अहमद के बड़े भाई जमील पूरे वाकिए से काफ़ी मायूस हैं. वो कहते हैं कि अब वो गाँव छोड़कर चले जाएंगे.

हालांकि उनका यह भी कहना था कि जिस वक़्त हमला हो रहा था उस वक़्त भी जो लोग उनके घरवालों को बचाने आए थे वो भी हिन्दू ही थे.

Image caption अख़लाक़ के भाई जमील इस घटना से अंदर तक हिल गए हैं

जमील कहते हैं, "अब ऊपरवाला जाने किसका हाथ है इस सब के पीछे. कई पुश्तों से हम यहाँ रहते आ रहे हैं. कभी कुछ नहीं हुआ. अब दिल टूट गया है."

"हमारा गाँव कभी ऐसा नहीं था. जब हमला हुआ तो बीच बचाव करने वाले, भीड़ से हमारे लोगों को छुड़ाने वाले भी हिन्दू ही थे. हमारे हिन्दू पड़ोसियों ने ही पुलिस को ख़बर की थी."

'सोची समझी साज़िश'

पूरे गाँव में अखलाक़ का घर एकमात्र मुसलमान घर है और घर के लोगों का कहना है कि गोहत्या के लिए अगर गाय लाई जाती तो वो सबके सामने से ही आती.

उन्हें लगता है कि अफ़वाह एक सोची समझी साज़िश होगी क्योंकि हमले से पहले ही सोशल मीडिया पर गोहत्या की अफ़वाहें प्रचारित की जाने लगीे थीं.

इलाक़े के विधायक सतबीर गुज्जर का भी कहना था कि हमले से काफ़ी पहले ही माहौल ख़राब किया जाने लगा और लोगों को भड़काने की कोशिश की गई.

हालांकि इसके पुख़्ता सुबूत नहीं मिल पाए मगर पीड़ित परिवार के सदस्यों का कहना है कि हमला करने वाले ''किसी प्रताप सेना से जुड़े हुए हैं" जो सोशल मीडिया पर इस तरह की अफ़वाह फैला रहे थे.

अख़लाक़ के सबसे बड़े पुत्र सरताज भारतीय वायु सेना में हैं और चेन्नई में तैनात हैं. उनका कहना था कि इस बार ईद पर वो घर नहीं आ पाए थे. जिस दिन घटना घटी उस दिन उन्होंने देर रात घर पर बात भी की थी.

सरताज कहते हैं, "फिर रात 11 बजे के बाद फ़ोन आया कि इस तरह की घटना घट गई. मैंने फ़ोन से ही एम्बुलेंस भिजवाने की कोशिश की. मगर नोएडा में कहीं भी एम्बुलेंस नहीं मिल पाई. मैंने ज़िलाधिकारी को मेल भी किया, मगर कोई जवाब न मिला."

'ये देशभक्त नहीं'

सरताज का कहना है कि हमला करने वाले 'देश भक्त' नहीं हो सकते. "अगर देश भक्त हैं तो सरहद पर जाकर लड़ो. आपस में क्यों मार-काट मचाए हुए हो?"

पुलिस ने अब तक इस मामले में 6 लोगों को गिरफ़्तार किया है जबकि गौतमबुद्ध नगर के अतिरिक्त ज़िला अधिकारी राजेश कुमार यादव ने बीबीसी से कहा कि घटना में शामिल कुछ और लोगों की गिरफ़्तारी के लिए छापामारी की जा रही है.

हालांकि घटना के बाद राजनेताओं और अधिकारियों का बिसाहड़ा में तांता लगा है, यहाँ के रहने वाले लोगों को अभी तक यह समझ नहीं आ रहा है कि आपसी भाईचारे के साथ रह रहे लोगों के बीच इस तरह की वारदात आख़िर हुई कैसे!

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉयड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार