पसंदीदा शिक्षक हटे तो छात्राएं स्कूल से भागीं

  • 2 अक्तूबर 2015
झारखंड स्कूल से जाती छात्राएं इमेज कॉपीरइट RAVI PRAKASH

झारखंड के पश्चिमी सिंहभूम ज़िले में पसंदीदा शिक्षकों को हटाने से नाराज़ एक सरकारी आवासीय स्कूल की 120 स्कूल छोड़कर चली गईं.

ये घटना मझगांव स्थित कस्तूरबा गांधी आवासीय बालिका विद्यालय की है. स्कूल से भागने वाली ज़्यादातर छात्राएं 10वीं से 12वीं की थीं.

स्कूल प्रबंधन ने छात्राओं के पसंदीदा शिक्षकों को हटाकर नई बहाली कर दी थी जिससे नाराज़ छात्राएं एक अक्तूबर को अपने घर चली गई थीं.

प्रशासनिक अधिकारियों ने इनमें से 115 छात्राओं को दो अक्तूबर की सुबह तक वापस बुला लिया.

पांच लड़कियां अब भी अपने घर पर हैं जिन्हें वापस बुलाने की कोशिश जारी है.

'पसंदीदा टीचर दिला दो'

इमेज कॉपीरइट RAVI PRAKASH

आदिवासी बहुल इलाके मझगांव में लड़कियों का यह एक प्रमुख स्कूल है.

स्थानीय पत्रकार और सारंडा टाइम्स के संपादक जीतेंद्र ज्योतिषी ने बताया कि यहां 297 छात्राओं के लिए 4 स्थायी और 8 अस्थायी शिक्षक हैं.

स्कूल में बिजली का कनेक्शन नहीं है इसके कारण डीप बोरिंग के बावजूद पानी का संकट है. स्कूल में आठ शौचालय हैं और छात्राओं का कहना है कि यह उनकी संख्या के हिसाब से कम है.

इमेज कॉपीरइट RAVI PRAKASH

स्कूल की वार्डन कैक्टस लिली सिंकू ने बीबीसी को बताया कि बच्चियां अपने पसंदीदा शिक्षकों को वापस बुलाने की मांग कर रही थीं.

ये सभी अस्थायी थे, इनकी नियुक्ति सिर्फ तीन महीने के लिए ही की जाती है. जुलाई में उनका अनुबंध ख़त्म हुआ तो उनकी जगह नए शिक्षकों को रखा गया.

लिली ने बताया कि पहले वाले समूह में पुरुष शिक्षकों की संख्या ज़्यादा थी जबकि, कस्तूरबा विद्यालयों में महिला शिक्षकों को प्राथमिकता देने का प्रावधान है.

लिहाज़ा, नए चयन में इसका ख़्याल रखा गया.

तालमेल अच्छा था

इमेज कॉपीरइट RAVI PRAKASH

मझगांव के बीडीओ बलराज कपूर ने बीबीसी को बताया कि छात्राएं सरिता कुमारी नामक शिक्षिका और चार शिक्षकों को वापस बुलाना चाहती थीं.

30 सितंबर की शाम उन्होंने स्कूल जाकर इन बच्चियों को समझाया था कि पुराने शिक्षकों को बतौर ट्यूटर रखा जा सकता है जिस पर छात्राएं राज़ी नहीं हुईं.

बलराज कपूर ने बताया कि इस घटना के बाद पश्चिमी सिंहभूम के डीसी अबू बकर सिद्दीक़ी ने स्कूल प्रबंधन समिति की बैठक बुलाकर शिक्षकों पर फ़ैसला लेने का निर्देश दिया है.

इमेज कॉपीरइट RAVI PRAKASH
Image caption रेवती पिंगुआ नौंवी की छात्रा है.

स्कूल में नौंवी की छात्रा रेवती पिंगुआ ने बताया कि पुराने शिक्षकों के साथ तालमेल अच्छा था.

इस घटना से एक दिन पहले बैठक में अभिभावकों ने स्थायी समाधान की मांग की थी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार