लखनऊ में खुले बिक रही है खुली सिगरेट

  • 8 अक्तूबर 2015
सिगरेट इमेज कॉपीरइट Thinkstock

उत्तर प्रदेश में खुली सिगरेट की बिक्री पर प्रतिबन्ध लगा दिया है लेकिन लखनऊ में इस सरकारी आदेश का फ़िलहाल कोई असर नहीं है.

किसी ने ये कहकर सिगरेट दे दी की "आपको जानते हैं" और किसी ने ये कहकर, 'बस आज ले लीजिए."

स्वास्थ्य विभाग की सिफ़ारिश पर लगाए गए इस प्रतिबन्ध को लागू करने का ज़िम्मा पुलिस को सौंपा गया है.

इमेज कॉपीरइट AFP

पहली बार इस क़ानून को तोड़ने की सज़ा एक साल का कारावास और 1000 रुपये का जुर्माना है. दूसरी बार तोड़ने पर 3000 रुपये जुर्माना और तीन साल की जेल का प्रावधान है.

पुलिस मुख्यालय के प्रवक्ता श्रवण कुमार सिंह ने कहा कि पुलिस जैसे और सब रोकती है वैसे ही इसे भी रोका जाएगा.

लेकिन पंचायत चुनाव की वजह से पुलिस विभाग अभी इस पर ठीक से विचार नहीं कर पाया है.

परेशानी नहीं

लखनऊ के कई दुकानदारों से एक-दो सिगरेट मिलने में परेशानी नहीं हो रही है.

इमेज कॉपीरइट AFP

छोटी-छोटी गुमटी लगाए आठ दुकानदारों में से एक ने मना किया और एक ने ये कहकर दे दी कि, "कल से नहीं बेचेंगे क्योंकि जेल कौन जाएगा."

बाक़ी दुकानदारों ने आसानी से सिगरेट दे दी और साथ ही जलाने के लिए माचिस भी.

अमित पाण्डेय नाम के एक दुकानदार ने कहा, "हमारे लिए तो अच्छा है क्योंकि जो पीने वाले हैं वो अब पूरी डिब्बी ख़रीदेंगे."

एक दूसरे सिगरेट विक्रेता ने कहा कि वो खुदरा नहीं बेचेगा क्योंकि जब मुश्किल आती है तो कोई मदद नहीं करता है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार