दो और लेखकों ने साहित्य अकादमी से नाता तोड़ा

  • 10 अक्तूबर 2015
के. सच्चिदानंदन इमेज कॉपीरइट K. Satchidanandan

भारत में सांप्रदायिक हिंसा की हालिया घटनाओं पर अपना विरोध जताते हुए मलयामल और अँग्रेज़ी भाषा के कवि के. सच्चिदानंदन ने साहित्य अकादमी से नाता तोड़ लिया है.

सच्चिदानंदन साहित्य अकादमी की विभिन्न समितियों के सदस्य थे जिनसे उन्होंने इस्तीफ़ा दे दिया है.

इसी तरह जानी-मानी उपन्यासकार सारा जोसेफ़ ने भी अपना साहित्य अकादमी सम्मान केंद्र सरकार को लौटाने का फैसला किया है.

शशि देशपांडे ने साहित्य अकादमी से नाता तोड़ा

इमेज कॉपीरइट Imran Qureshi

इन दोनों लेखकों से पहले जानी-मानी उपन्यासकार शशि देशपांडे ने साहित्य अकादमी की गवर्निंग काउंसिल से इस्तीफ़ा दे दिया था.

उन्हें शिकायत थी कि 'अकादमी ने कन्नड़ विद्वान डॉक्टर एमएम कलबुर्गी के निधन पर खेद तक ज़ाहिर नहीं किया.'

अशोक वाजपेयी ने लौटाया साहित्य अकादमी सम्मान

इमेज कॉपीरइट Ashok Vajpeyi

हिंदी कवि और आलोचक अशोक वाजपेयी ने दादरी में बीफ़ की अफ़वाह को लेकर हुई हिंसा और कई सामाजिक कार्यकर्ताओं की हत्याओं से जुड़ी घटनाओं पर 'प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की चुप्पी' पर सवाल उठाया था.

अशोक वाजपेयी का कहना था कि उन्होंने 'जीवन और अभिव्यक्ति, दोनों की स्वतंत्रता के अधिकार पर हो रहे हमलों को देखते हुए' पुरस्कार लौटाने का फैसला किया.

नयनतारा सहगल ने लौटाया साहित्य अकादमी

मशहूर लेखिका नयनतारा सहगल ने भी अपना साहित्य अकादमी पुरस्कार लौटाने का फ़ैसला किया था.

भारत के पहले प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू की भांजी नयनतारा ने एक बयान जारी करके कहा था, "सरकार, भारत की सांस्कृतिक विविधता की हिफ़ाज़त करने में नाकाम रही है. इस वजह से मैंने ये सम्मान लौटाने का फ़ैसला किया है."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार