क्या सवर्ण जाति देख कर वोट नहीं देते?

बूझिए ना बिहार को इमेज कॉपीरइट KIRTISH BHATT

बिहार चुनावों पर बीबीसी की विशेष सिरीज़ 'बूझिए ना बिहार को' में हम आपको अगले कुछ दिनों तक राज्य से जुड़े मिथकों और तथ्यों के बारे में बताते रहेंगे.

इस कड़ी में जानिए, क्या बिहार में होने वाले चुनावों में सवर्ण लोग जाति के आधार पर वोट नहीं देते हैं?

क्या वे मुद्दों के आधार पर ही तय करते हैं किसे वोट दिया जाए?

मुद्दों पर मतदान?

पहली कड़ी: क्या लालू केवल यादवों के नेता हैं?

इमेज कॉपीरइट AP

आमतौर पर यह माना जाता है कि बिहार का अन्य पिछड़ा वर्ग या ओबीसी (जिसमें यादव, कुर्मी और कोइरी प्रमुख हैं) और दलित मतदाता जाति के आधार पर वोट देते हैं.

समझा जाता है कि सवर्ण मतदाता सिर्फ़ मुद्दों के आधार पर वोट देता है.

इसका मतलब यह हुआ कि सिर्फ़ दलित और अन्य पिछड़ा वर्ग के मतदाता ही जाति के आधार पर वोट देते हैं.

दूसरी कड़ी: क्या बिहार में कांग्रेस उजड़ चुकी है?

ऐसा इसलिए माना जाता है कि अन्य पिछड़ा वर्ग और दलितों में ज़्यादातर अशिक्षित हैं.

यह भी माना जाता है कि ऐसे लोग राजनीति को नहीं समझते. उन्हें जाति के नाम पर मतदान करने के लिए आसानी से तैयार किया जा सकता है.

क्या है सच?

इमेज कॉपीरइट AFP

केवल ओबीसी और दलित मतदाता ही जाति के आधार पर वोट देते हों, ऐसा नहीं है.

बिहार ही नहीं, अन्य राज्यों के सवर्ण मतदाता भी जाति के आधार पर वोट देते रहे हैं.

तीसरी कड़ी: नीतीश 'लोकप्रिय', पर जुटा सकेंगे वोट?

बिहार के ओबीसी और दलित मतदाता अब तक लालू प्रसाद की राष्ट्रीय जनता दल और नीतीश कुमार की जनता दल-यूनाइटेड को वोट देते आए हैं.

दूसरी ओर, सवर्ण मतदाता बड़ी संख्या में भारतीय जनता पार्टी को वोट देते रहे हैं.

सवर्ण किसके साथ हैं?

इमेज कॉपीरइट SEETU TIWARI

विधानसभा के तीन चुनावों में बिहार के 65 फ़ीसदी सवर्ण मतदाताओं ने बीजेपी-जेडीयू गठबंधन को वोट दिया.

चौथी कड़ी: क्या बिहार चुनाव केवल अपराधियों के लिए है?

साल 2014 के लोकसभा चुनाव के दौरान चार सवर्ण जातियों (ब्राह्मण, भूमिहार, राजपूत और कायस्थ) ने मोटे तौर पर बीजेपी को वोट दिया.

क़रीब 78 फ़ीसदी सवर्ण मतदाताओं ने बीजेपी और उनके सहयोगियों को मत दिया था.

सबसे बड़ा जातीय ध्रुवीकरण

पांचवी कड़ी: पासवान-मांझी में कौन है बड़ा दलित नेता?

इमेज कॉपीरइट AFP

प्रत्येक 10 भूमिहारों में नौ ने बीजेपी गठबंधन को मत दिया था.

यह बिहार ही नहीं, भारत के चुनावी इतिहास में किसी एक जाति का किसी एक पार्टी के पक्ष में सबसे बड़ा ध्रुवीकरण था.

छठी कड़ी: बिहार चुनाव में 'भोटकटवा' बहुत हैं क्या?

सातवीं कड़ी: क्या बिहार में वोट सिर्फ़ जाति पर पड़ते हैं?

ऐसे में क्या हम कह सकते हैं कि सवर्ण मतदाता जाति के आधार पर मतदान नहीं करते?

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार