सुनिए खट्टर ने बीफ़ पर क्या कहा

  • 16 अक्तूबर 2015
प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा

हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर के बीफ़ के मुद्दे पर बयान की तीखी राजनीतिक प्रतिक्रिया हुई है.

अंग्रेज़ी अख़बार 'द इंडियन एक्सप्रेस' में प्रकाशित ख़बर में बीफ़ मुद्दे पर मनोहर लाल खट्टर के हवाले से कहा गया था, "मुस्लिम रहें, मगर इस देश में बीफ़ खाना छोड़ना ही होगा उनको."

खट्टर के अनुसार भारत में गाय आस्था का मामला है और किसी को भी दूसरे की भावनाओं को ठेस पहुँचाने की आज़ादी नहीं है.

हालाँकि इस बयान पर मचे बवाल के बाद अब खट्टर की ओर से सफ़ाई भी आई है.

एक प्रेस वार्ता में खट्टर ने कहा, "अगर मेरे बयान से किसी को ठेस पहुँची है तो मैं खेद प्रकट करने के लिए तैयार हूँ."

इससे पहले, मनोहर लाल खट्टर के निजी सचिव जवाहर यादव ने कहा कि खट्टर ने बीफ़ पर कोई आदेश नहीं दिया है, बल्कि आग्रह किया है.

इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption दादरी में गोमांस खाने की अफ़वाह पर एक मुसलमान व्यक्ति की हत्या के बाद से भारत में गाय पर राजनीति गरमा गई है.

जवाहर यादव ने कहा,"मुख्यमंत्री ने बहुसंख्यक समाज की भावनाओं का ख़्याल रखने का आग्रह किया है. जिस तरह से हिंदू मुसलमानों की भावनाओं का ख़्याल रखते हैं, वैसे ही मुसलमानों को हिंदुओं की भावनाओं का ख़्याल रखना चाहिए."

बयान की आलोचना

मनोहर लाल खट्टर के कथित बयान पर टिप्पणी करते हुए जनता दल यूनाइटेड के अध्यक्ष शरद यादव ने कहा, 'रोज़ कोई ना कोई, कहीं ना कहीं से बयान दे देता है. अब खट्टर कह रहे हैं. आप पूर्वोत्तर का क्या करोगे, हटा दोगे उसे. खट्टर जी को पूर्वोत्तर में जाकर देखना-पूछना चाहिए कि वहां क्या है.'

वहीं राष्ट्रीय जनता दल अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव ने कहा 'खट्टर है, खट्टर का कट्टर मन है, उनका मामला अब खटखटा जाएगा.'

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार