झुलस कर मरे युवक की मौत पर बंद का एलान

  • 18 अक्तूबर 2015
ज़ाहिद की हत्या इमेज कॉपीरइट MAJID JAHANGIR

भारत प्रशासित जम्मू कश्मीर में अलगाववादी संगठनों ने 24 वर्षीय ज़ाहिद की मौत के ख़िलाफ़ सोमवार को बंद का आह्वान किया है.

ज़ाहिद अहमद की मौत रविवार सुबह दिल्ली के सफ़दरजंग अस्पताल में हुई.

ज़ाहिद नौ अक्तूबर 2015 को उस समय बुरी तरह झुलस गए थे जब वह जम्मू से 80 किलोमीटर दूर उधमपुर में अपने ट्रक में सोए हुए थे.

कुछ लोगों ने उनके ट्रक में पेट्रोल बम फेंका जिससे वह और ट्रक में सो रहे दो लोग भी बुरी तरह ज़ख़्मी हो गए थे.

दोनों का इलाज दिल्ली में चल रहा है.

तनाव

इमेज कॉपीरइट MAJID JAHANGIR

ज़ाहिद की मौत के बाद भारत प्रशासित कश्मीर में तनाव बना हुआ है. दक्षिणी कश्मीर के अनंतनाग और कुलगाम में हिंसक झड़पों की भी खबरें हैं.

उधमपुर में तीन गायों के शव पाए जाने के बाद ज़ाहिद के ट्रक पर हमला हुआ था जिसके बाद पूरे इलाके में प्रदर्शन हुए थे.

प्रशासन ने अगले दिन कहा था कि तीन गायों को किसी ने मारा नहीं था.

उमर का भाजपा पर वार

इमेज कॉपीरइट AP

पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुलाह ने ज़ाहिद की मौत के लिए भाजपा और उस सहयोगी दलों को सीधे तौर पर ज़िम्मेदार ठहराया है.

उमर ने अपने एक ट्वीट में लिखा है," गोमांस की पाबंदी के नाम पर एक और गैरज़रूरी मौत, जिसके लिए भाजपा, उससे जुड़े लोग और सहयोगी दल सीधे तौर पर ज़िम्मेदार हैं."

मुख्यमंत्री मुफ़्ती मोहम्मद सईद ने ज़ाहिद की मौत पर कहा है,''एक और ज़िन्दगी नफ़रत और असहिष्णुता की राजनीति का शिकार हुई है जो कि पूरे भारत और राज्य के लिए एक बड़ी चुनौती है.''

कश्मीर बंद का एलान

इमेज कॉपीरइट EPA

वहीं अलगाववादी नेता और जम्मू कश्मीर लिबरेशन फ्रंट के अध्यक्ष यासीन मालिक ने ज़ाहिद की मौत और कश्मीर बंद के बारे में बीबीसी को बताया, " जैसे कि आपको पता है कि उधमपुर में किस तरह से हिन्दू अंधराष्ट्रीवादी लोगों ने एक ट्रक ड्राइवर को जलाया और हिमाचल में भी एक मुसलमान की बेदर्दी से हत्या की गयी तो इससे लगता है कि भारत में धर्म के नाम पर जो असहिष्णुता बढ़ रही है उससे भारत फासीवाद की तरफ बढ़ रहा है, इसलिए कल इन दो हत्याओं के ख़िलाफ़ कश्मीर बंद रहेगा."

निर्दलीय विधायक इंजीनियर रशीद बताते हैं," ज़ाहिद को उसी रात ज़िंदा जलाने की कोशिश की गयी जिस दिन उधमपुर में तीन गायों मृत पायी गयीं. ज़ाहिद और उनके दो साथियों से उसका बदला लिया गया. नरेंद्र मोदी को पूरे कश्मीर से इस घटना पर माफ़ी मांगनी चाहिए."

इंजीनियर रशीद ने उधमपुर घटना से पहले श्रीनगर में बीफ पार्टी का आयोजन किया था जिसके अगले दिन रशीद को भाजपा के विधायकों ने विधानसभा में पिटाई की थी.

पांच लोगों के ख़िलाफ़ मामला

इमेज कॉपीरइट MAJID JAHANGIR

उधमपुर घटना में शामिल पांच लोगों पर रविवार को प्रशासन ने पब्लिक सेफ्टी एक्ट के तहत मामला दर्ज किया, पुलिस को इस मामले में और तीन लोगों की तलाश है.

उधमपुर के डिप्टी कलेक्टर शहीद इक़बाल चौधरी ने बीबीसी को बताया," हमने उन पांच लोगों के ख़िलाफ़ पब्लिक सेफ्टी एक्ट लगाया है जो ट्रक पर हमला करने में शामिल थे , ताहम डोसियर में ये नहीं लिखा है कि उनका संबंध किस संगठन से है जिसके लिए एक अलग जाँच होती है. "

ये पूछने पर कि क्या उधमपुर में जो गायें मरी थीं उस मामले को लेकर ट्रक पर हमला किया गया था तो उन्होंने कहा ," मुझे लिखित आरोप में ऐसा कुछ नहीं बताया."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार