दलित हत्याः सीबीआई जांच की सिफ़ारिश

  • 21 अक्तूबर 2015
सनपेड़ गांव जाम, फ़रीदाबाद, दलित इमेज कॉपीरइट PTI

हरियाणा सरकार ने फ़रीदाबाद के बल्लभगढ़ में दलितों को जलाए जाने के मामले की सीबीआई जांच की सिफ़ारिश कर दी है.

समाचार एजेंसी पीटीआई के अनुसार राज्य सरकार के आधिकारिक प्रवक्ता ने यह जानकारी दी है.

पीड़ित परिवार इस आगज़नी की सीबीआई जांच की मांग कर रहा था. इससे पहले बुधवार की दोपहर जब ढाई साल के वैभव और 11 महीने की दिव्या के शव सफ़ेद कफ़न में लिपटे गांव में पहुंचे तो गांव में दुख और आक्रोश की लहर दौड़ गई.

गुस्साए गांव वालों नारे लगाते हुए हाथ में हाथ डालकर एक कड़ी सी बनाकर आए और दोनों बच्चों के शव को लेकर दिल्ली-आगरा हाइवे पर जाम लगा दिया था.

इमेज कॉपीरइट PTI

बुधवार की सुबह कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी भी पीड़ित दलित परिवार से मिलने सनपेड़ गांव पहुंचे थे.

उन्होंने कहा था कि हरियाणा में गरीबों की सरकार नहीं है इसलिए गरीबों, कमज़ोरों पर अत्याचार किया जा रहा है, उन्हें मारा जा रहा है.

कांग्रेस उपाध्यक्ष ने आरोप लगाया, "कुछ दिन पहले लोग प्रशासन के पास गए थे. लेकिन अधिकारियों ने उनसे कहा कि अभी आपका कोई मरा नहीं है आप वापस जाइए."

उन्होंने मांग की, "जिन्होंने यह अपराध किया है उनके साथ ही उन पुलिसकर्मियों के ख़िलाफ़ भी कार्रवाई होनी चाहिए जो अपना काम ठीक से नहीं कर रहे हैं."

इमेज कॉपीरइट manoj dhaka

हरियाणा पुलिस के डिप्टी कमिश्नर डॉक्टर अमित उग्रवाल के अनुसार हमलावरों ने दलित परिवार के घर पर केरोसीन छिड़ककर आग लगा दी गई जिससे दो बच्चों की मृत्यु हो गई.

प्रशासन के अनुसार गांव में क़रीब में करीब ढाई हज़ार लोग रहते हैं जिसमें से 750 दलित परिवार हैं और बाकी अन्य जातियों के जिनमें राजपूतों की संख्या अधिक है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार