ये हैं 'लॉयंस क्वीन ऑफ़ इंडिया'

इमेज कॉपीरइट Handout

भारत के गुजरात में स्थित गीर अभयारण्य में एशियाई शेरों को बचाने की क़वायद में महिला वन सुरक्षाकर्मियों का एक दल मुस्तैदी से तैनात है.

पूरे दिन ये सुरक्षाकर्मी सिर्फ़ इन शेरों की सुरक्षा पर ध्यान देती है. गीर अभयारण्य के दौरे में बीबीसी संवाददाता गीता पांडे ने इनमें से कुछ महिलाओं से मुलाक़ात की.

इमेज कॉपीरइट Handout

गीर अभयारण्य में 2007 में वन सुरक्षाकर्मियों की महिला इकाई की स्थापना की गई थी.

गुजरात के उस समय के मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी ने गीर में महिलाओं के लिए 33 फ़ीसदी आरक्षण का आदेश दिया था.

इमेज कॉपीरइट Handout

2007 में वन विभाग की ओर से चुनी गई महिलाओं के पहले बैच में रासिला वाधेर शामिल हैं.

इमेज कॉपीरइट Handout

उनका कहना है, "उस वक़्त मैं वन विभाग, जानवरों या गीर के बारे में कुछ नहीं जानती थी."

2007 में जब उनको गीर में होने वाली नियुक्तियों के बारे में पता चला तो वो अपने भाई को लेकर पहुंच गई.

इमेज कॉपीरइट Handout

वाधेर को अन्य महिला वन सुरक्षाकर्मियों के साथ डिस्कवरी चैनल की सिरीज़ 'द लायन क्वीन्स ऑफ़ इंडिया' में दिखाया गया है.

वाधेर की पिछले साल शादी हुई है. वो बताती है कि उन्होंने अपने पति को शादी से पहले आगाह किया था.

इमेज कॉपीरइट Handout

उन्होंने अपने होने वाले पति से कहा, "मेरा यह काम चौबीस घंटे का है. मुझे भोर के तीन बजे भी बुलाया जा सकता है. और मुझे मर्दों के साथ काम करना होगा."

इमेज कॉपीरइट Handout

वो बताती है कि मेरे पति इससे सहमत थे. वो समझते हैं और कोई समस्या नहीं है.

दर्शना कगादा आठ बहनों वाले परिवार से आती है. उनका कोई भाई नहीं है.

इमेज कॉपीरइट Handout

वो बताती हैं, "मैं एक राजपूत परिवार से आती हूं जो कि रूढ़िवादी है. हमारे परिवार में महिलाओं और लड़कियों को कमतर आंका जाता है. हमें सिर्फ़ शादी करके परिवार की देखभाल करने के लायक समझा जाता है और कोई लड़कियों के करियर के बारे में नहीं सोचता."

मेरे पिता की सोच भी ऐसी ही थी.

इमेज कॉपीरइट sandeep kumar gir forest

वो बताती हैं, "मैंने 2011 में अपनी 12वीं की पढ़ाई ख़त्म की थी. मुझे उस वक़्त वन विभाग में होने वाली नियुक्ति के बारे में पता चला तो मैं अपनी बहन के घर पहुंच गई और उसके पति से परीक्षा दिलवाने ले जाने को कहा.

इमेज कॉपीरइट Handout

आज कगादा गीर में तैनात उन 48 महिला सुरक्षाकर्मियों में से एक है जो शेरों और तेंदुओं को बचा रही हैं.

गीता रतादीया हमेशा से ही वन सुरक्षाकर्मी बनना चाहती थीं.

इमेज कॉपीरइट Sandeep kumar gir forest

वो कहती हैं, "मेरा जन्म गीर में हुआ है. मेरे दादा और मेरे पिता दोनों गीर में वन सुरक्षाकर्मी के रूप में काम करते थे."

इमेज कॉपीरइट

वाधेर और कगादा ने गीर आने से पहले कभी शेरों को नहीं देखा था लेकिन रतादीया का चार साल की उम्र में ही शेरों और तेंदुओं से पाला पड़ गया था.

इमेज कॉपीरइट sandip kumar gir forest

वो हंसते हुए बताती है, "मेरे पिता अक्सर मुझे अपने साथ जंगल ले आते थे. एक दिन मैंने उन्हें शेरों के नज़दीक देखा और डरकर चिल्लाने लगी. मुझे लगा कि शेर मेरे पिता पर हमला कर देंगे."

इमेज कॉपीरइट Sandeep kumar gir forest

इसके बाद भी उन्होंने अपने पिता के साथ जंगल जाना नहीं छोड़ा. वो बताती है कि धीरे-धीरे उनका डर भी जाता रहा.

इमेज कॉपीरइट Sandeep kumar gir forest

छह सालों से वन सुरक्षाकर्मी के रूप में काम करते हुए रतादीया कई बचाव कार्यों में शामिल रही हैं और राहत केंद्र पर शेरों की देखभाल की है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार