कभी दाऊद के वफ़ादार फिर जानी दुश्मन राजन

  • 27 अक्तूबर 2015
छोटा राजन इमेज कॉपीरइट PTI

इंडोनेशिया में गिरफ़्तार छोटा राजन के ख़िलाफ़ कई आपराधिक मामले दर्ज हैं.

दाऊद के बाद बड़े गैंगस्टरों में छोटा राजन का नाम दूसरे नंबर पर आता रहा है. राजन पर जबरन वसूली, हत्या, और अपहरण के कई मामले दर्ज हैं.

लंबे समय तक दाऊद के गैंग में रहे राजन ने 1993 में मुंबई बम ब्लास्ट के बाद अपना गैंग बना लिया.

छोटा शकील और छोटा राजन में झगड़ा चल रहा था, छोटा शकील ने दाऊद का गैंग नहीं छोड़ा.

छोटा शकील और छोटा राजन के बीच दुश्मनी गहरी होती गई. दोनों ने मुंबई में बहुत आतंक मचाया.

इमेज कॉपीरइट PTI

पिछले कुछ सालों से छोटा राजन के छिपने के ठिकाने इंडोनेशिया और ऑस्ट्रेलिया रहे हैं.

दाऊद ने छोटा राजन पर हमला भी करवाया था, लेकिन वो नाकाम रहा.

छोटा राजन को भारत लाने में कोई दिक़्क़त नहीं होगी क्योंकि इंडोनेशिया के साथ 2011 से भारत की प्रत्यर्पण संधि भी है.

राजन के भारत आने पर पुलिस को कई अहम जानकारियां मिल सकती हैं. दाऊद के भी कई आदमियों के बारे में पता चल सकेगा.

भारत की पुलिस को छोटा राजन की कई सालों से तलाश थी और इंटरपोल ने गिरफ़्तारी के लिए रेड कॉर्नर नोटिस जारी किया था.

(पी एस पसरीचा, पूर्व पुलिस महानिदेशक, महाराष्ट्र से बीबीसी संवाददाता निखिल रंजन की बातचीत पर आधारित)

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार