'हम गीता को लौटा रहे हैं, वे गोले बरसा रहे हैं'

  • 26 अक्तूबर 2015

पाकिस्तान से सोमवार को भारत लौटीं गीता दोनों देशों में सोशल मीडिया पर छाई हैं.

माना जाता है कि भारत की गीता भटक कर पाकिस्तान चली गई थीं. बोलने और सुनने से लाचार गीता बरसों से पाकिस्तान में रह रही थीं जहां उनका ख़्याल पाकिस्तान में सामाजिक कार्यों में लगे संगठन ईधी फ़ाउंडेशन ने रखा.

पाकिस्तानी सोशल मीडिया में गीता को 'शांति की मिसाल' के तौर पर पेश किया जा रहा है जबकि कुछ लोग भारत पर निशाना साधने से भी नहीं चूक रहे हैं.

पाकिस्तान के मानवाधिकार कार्यकर्ता अंसार बर्नी ने ट्वीट किया, "भारत की गुम हुई लड़की गीता सोमवार को भारत पहुंच रही है. वो पाकिस्तान से अमन और मुहब्बत का संदेश लेकर गई है."

Image caption गीता की तस्वीर के साथ पाकिस्तानी मानवाधिकार कार्यकर्ता अंसार बर्नी

‏@RashidQutub नाम के एक यूज़र ने लिखा, "बात ये है कि आपका दिल कितना बड़ा है! अंपायर अलीम डार आईसीसी की ड्यूटी पर थे तो उन्हें जान का ख़तरा था. वहीं पाकिस्तानी, गीता को बहुत से तोहफ़ों के साथ भेज रहे हैं."

वहीं एक यूज़र इमरान ख़ान ने ‏@Imrankhanmughal हैंडल से लिखा, "गीता पाकिस्तान से भारत लौट गई. उम्मीद है कि तुम्हें हमारी मेहमान नवाज़ी पसंद आई होगी."

ट्विटर हैंडल ‏@burhanayyub से बुरहान अयूब ने ट्वीट किया, "पाकिस्तान पूरे सम्मान से मूक बधिर महिला को लौटा रहा है जबकि भारत सीमा पर गोलीबारी कर रहा है जिसमें छह निर्दोष पाकिस्तानी घायल हो गए."

वहीं एम तुफ़ैल अहमद लिखते हैं, "हमें ऐसे और लोगों की ज़रूरत है जो नफ़रत फैलाने वाले लोगों को इंसानियत सिखा सकें. ईधी साहब को सलाम."

वासिफ़ शकील ने ‏@Wasifshakil से ट्वीट किया, "कम से कम भारतीय मीडिया को ईधी फ़ाउंडेशन की सेवाओं को सराहना चाहिए."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार