'नीतीश के इस्तीफ़े के बाद ही दिल्ली जाऊंगा'

  • 1 नवंबर 2015
राधामोहन सिंह इमेज कॉपीरइट Ritesh Kumar

कृषि मंत्री और भाजपा के वरिष्ठ नेता राधामोहन सिंह उन केंद्रीय मंत्रियों में शामिल हैं, जो बिहार चुनाव के मद्देनज़र राज्य में कैंप कर रहे हैं.

राधामोहन सिंह पूर्वी चंपारण से भाजपा के सांसद हैं. बीबीसी ने मोतिहारी में उनसे सांप्रदायिक ध्रुवीकरण और आरक्षण समेत कई मुद्दों पर सीधे सवाल पूछे.

पढ़ें राधामोहन सिंह से बातचीत के कुछ अंश.

पीएम मोदी ने चुनाव को प्रतिष्ठा का विषय बनाया है?

इमेज कॉपीरइट AFP

भारतीय जनता पार्टी का छोटे से छोटा कार्यकर्ता चुनाव को चुनौती के रूप में लेता है.

प्रधानमंत्री भी एक कार्यकर्ता हैं. वह प्रधानमंत्री बाद में हैं, पहले एक कार्यकर्ता हैं. मैं कृषि मंत्री बाद में हूं, पहले कार्यकर्ता हूं.

क्या आपकी प्रतिष्ठा दांव पर है?

मैं दिल्ली जाता रहा हूं, कृषि मंत्री का दायित्व निभाने के लिए दस दिन में जाकर बैठक करता हूं, लेकिन पिछले 10 दिन से नहीं गया.

मुख्यमंत्री ने मुझे चुनौती देकर पूछा था कि मैं कहां हूं. तो अब मैं दिल्ली उसी दिन जाऊंगा जिस दिन, आठ तारीख़ को, मुख्यमंत्री इस्तीफ़ा देंगे.

पासवान ने कहा कि आरएसएस प्रमुख का आरक्षण पर बयान गलती थी

किसी भी पार्टी का रुख़ वही होता है जो उसका अध्यक्ष बोलता है या उसका मुखिया बोलता है. प्रधानमंत्री ने कहा, 'मेरी जान चली जाएगी लेकिन आरक्षण पर कोई आंच नहीं आएगी.'

इमेज कॉपीरइट PTI

बिहार के लोग समझ चुके हैं और अब वे पूछ रहे हैं कि नीतीश और लालू धर्म के आधार पर पांच फ़ीसदी आरक्षण की जो बात कहते हैं उसका आधार क्या है?

संविधान की सीमा है 50 फ़ीसदी, इसलिए यह पिछड़ों और दलितों का आरक्षण काटकर देंगे. इसलिए अनुसूचित जाति के लोग, पिछड़े लोग इनके रुख़ का विरोध कर रहे हैं.

लोकसभा की सफलता दोहरा पाएंगे?

डेढ़ साल में जो नरेंद्र मोदी सरकार ने देश के लिए किया है, और बिहार को जो इतना बड़ा पैकेज दिया है उसका असर बिहार के लोगों पर है. लोगों के दिमाग में है कि लालू और नीतीश की सरकार बिहार का भला नहीं कर सकती.

इमेज कॉपीरइट manish shandilya

देश का प्रधानमंत्री राज्य को इतना देना चाहता हो और राज्य का मुख्यमंत्री झगड़ा करता हो, तो देश का कैसे भला होगा? लोग इस बात को समझ चुके हैं इसलिए लोकसभा चुनाव से ज़्यादा समर्थन इस चुनाव में मिल रहा है.

'पाकिस्तान में पटाखे छूटेंगे', ये बयान सांप्रदायिक ध्रुवीकरण की कोशिश नहीं?

अमित शाह जो बोलते हैं वह ग़लत नहीं है, ऐसा देखा गया है.

इमेज कॉपीरइट SHAILENDRA KUMAR

लेकिन पहले लालू प्रसाद अपने बयान पर बोलें कि गाय और बकरे के मांस में कोई अंतर नहीं है.

उनके बड़े नेता बोले कि हमारे ऋषि-मुनि गाय खाते थे. इसके पीछे उनकी क्या मंशा थी?

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार