बीजापुर में सुरक्षाबलों पर बलात्कार, लूटपाट का आरोप

  • 2 नवंबर 2015
बीजापुर की आदिवासी महिलाएं इमेज कॉपीरइट Tameshwar Sinha

छत्तीसगढ़ के माओवाद प्रभावित बीजापुर ज़िले की कुछ आदिवासी महिलाओं ने इलाक़े के सीआरपीएफ और पुलिस के कुछ जवानों पर कथित बलात्कार, यौन प्रताड़ना और घरों में लूटपाट का आरोप लगाया है.

मानवाधिकार संगठनों के हस्तक्षेप के बाद रविवार को इनमें से चार पीड़ित महिलाओं ने ज़िले के कलेक्टर और पुलिस अधीक्षक के समक्ष अपना बयान दर्ज़ कराया.

बीजापुर ज़िले के पुलिस अधीक्षक केएल ध्रुव ने बीबीसी को बताया, "हमें इन चार महिलाओं से शिकायत मिल गई है. इस मामले की हम जांच कर रहे हैं."

फ़िलहाल ये स्पष्ट नहीं है कि 19 से 22 अक्तूबर की बताई जा रही इन धटनाओं में कितने सुरक्षाकर्मियों पर आरोप लगाए गए हैं.

बयान दर्ज कराने वालों में 15 साल की एक लड़की भी शामिल है. इस लड़की ने सुरक्षाबल के जवानों पर सामूहिक बलात्कार का आरोप लगाया है.

इमेज कॉपीरइट Reuters

अधिकारियों को कुछ अन्य पीड़ित महिलाओं की वीडियो रिकार्डिंग भी दिखाई गई. अधिकारियों ने रविवार देर शाम पीड़ित महिलाओं का ज़िला अस्पताल में चिकित्सकीय परीक्षण कराया. इसकी रिपोर्ट अभी नहीं आई है.

पीड़ित आदिवासी महिलाओं ने आरोप लगाया है कि बड़ागुड़ा थाना के चिन्नागेलूर, पेदागेलूर, गोदेम और भूर्गीचेरु समेत कई गांवों में सीआरपीएफ और पुलिस के कुछ जवानों ने माओवादियों की तलाशी के नाम पर उनके घरों में घुसकर लूटपाट की है.

इन आदिवासी महिलाओं का आरोप है कि जवानों ने उनके घरों से पुरुष सदस्यों को बलपूर्वक निकाला और महिलाओं के साथ बलात्कार किया.

छत्तीसगढ़ महिला अधिकार मंच की रिनचिन के अनुसार, ''इन पीड़ित महिलाओं के अलावा कई लड़कियां और महिलाएं ऐसी हैं, जो सुरक्षाबल के जवानों का शिकार हुईं. पीड़ित महिलाओं को सुरक्षा का भरोसा दिलाया जाए तो वो भी सामने आएंगी.''

इमेज कॉपीरइट Tameshwar Sinha

मानवाधिकारों के लिए काम करने वाले पीपुल्स यूनियन ऑफ़ सिविल लिबर्टीस (पीयूसीएल) के छत्तीसगढ़ के अध्यक्ष डॉक्टर लाखन सिंह ने कहा, ''बस्तर में लोकतंत्र को तहस-नहस किया जा रहा है. आदिवासियों पर माओवादी होने का आरोप लगा कर उन्हें प्रताड़ित किया जा रहा है. सारकेगुड़ा इलाके में सुरक्षाबल के जवानों ने जो कुछ किया है, वह कोई पहली घटना नहीं है. संकट यह है कि इस तरह के मामलों में सरकार कोई कार्रवाई नहीं करती."

उधर बस्तर रेंज के आईजी पुलिस एसआरपी कल्लूरी ने कहा, ''मेरी जानकारी में ऐसी कोई घटना नहीं है. उनकी जो भी शिकायत है, वे लिखित में बीजापुर एसपी को दे दें और हम कार्रवाई करेंगे.''

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार