महागठबंधन को पसंद नहीं आई भाजपा की गाय

बिहार, भाजपा, गाय, पोस्टर इमेज कॉपीरइट

चुनाव प्रचार ख़त्म होने के बाद बुधवार को भारतीय जनता पार्टी के एक नए विज्ञापन से बिहार की राजनीति गर्म हो गई है.

इस विज्ञापन में लालू प्रसाद, रघुवंश प्रसाद सिंह और सिद्धारमैया के बयान देकर भाजपा ने नीतीश से इन पर सफ़ाई मांगी है.

इसके बाद महागठबंधन ने इस विज्ञापन के ख़िलाफ़ चुनाव आयोग में शिकायत दर्ज करा दी है.

इमेज कॉपीरइट

भाजपा की ओर से जारी पोस्टर में नीतीश कुमार से पूछा गया है, ‘‘मुख्यमंत्री जी, आपके साथी हर भारतीय के पूज्य गाय का अपमान बार-बार करते रहे और आप चुप रहे! वोट बैंक की राजनीति बंद कीजिए और जवाब दीजिए. क्या आप अपने साथियों के इन बयानों से सहमत हैं.’’

बुधवार को पटना में महागठबंधन की ओर से जेडी-यू नेता और सांसद पवन वर्मा शिकायत दर्ज कराने वाले प्रतिनिधिमंडल का हिस्सा थे.

उन्होंने बीबीसी को बताया, ‘‘भाजपा ने भड़काऊ विज्ञापन संबंधी चुनाव आयोग के निर्देशों का साफ़-साफ़ उल्लंघन किया है. इसके विरोध में हमने आज शिकायत दर्ज कराई है.’’

पवन वर्मा ने कहा कि चुनाव आयोग ने इसके ख़िलाफ़ कार्रवाई की बात कही है. उन्होंने इस विज्ञापन को दो क़ौमों के बीच हिंसा और नफ़रत फैलाने वाला क़रार दिया.

बिहार भाजपा के वरिष्ठ नेता और विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष नंदकिशोर यादव ने कहा, ‘‘हम माहौल ख़राब नहीं कर रहे. जिन लोगों ने ग़लतबयानी की है हम उन्हें सच का आईना दिखा रहे हैं. कठघरे में खड़ा कर रहे हैं. यह हमारा काम है.’’

इमेज कॉपीरइट Twitter

बिहार विधानसभा चुनाव के अंतिम चरण में गुरुवार को सीमांचल और मिथिलांचल इलाक़े में जिन नौ ज़िलों में मतदान होना है उनमें कई मुस्लिम और यादव बहुल आबादी वाले ज़िले भी हैं.

इस बीच दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने भी ट्वीट किया कि भाजपा को यह साफ़ करना चाहिए कि यह विज्ञापन बीजेपी के शीर्ष नेतृत्व की ओर से दिए गए हैं या 'फ्रिंज एलिमंट्स' (हाशिए पर बैठे लोग) ने.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार