बिहार चुनाव नतीजों की उल्टी गिनती शुरू

  • 8 नवंबर 2015
बिहार विधानसभा चुनाव इमेज कॉपीरइट PTI SHAILENDRA KUMAR PRASHANT RAVI

बिहार विधानसभा चुनाव के नतीजों की उल्टी गिनती शुरू हो गई है. 243 सदस्यीय विधानसभा के लिए कुल 3,450 प्रत्याशियों की किस्मत का जनता ने क्या फ़ैसला किया है, रविवार दोपहर तक पता चल जाएगा.

लगभग दो महीने के बेहद थका देने वाले प्रचार अभियान और पांच चरणों में हुए चुनाव के बाद मतगणना के पहले की रात दोनों ही गठबंधनों के नेताओं और उम्मीदवारों के लिए क़यामत की रात जैसी ही है.

एग्जिट पोल ने प्रत्याशियों और सियासी दिग्गजों की बेचैनी बढ़ा दी है. सभी दलों के नेता अपने-अपने क्षेत्र में जुटे हैं जबकि पार्टी कार्यालयों में कुछ अपवादों को छोड़कर आम कार्यकर्ता ही दिख रहे हैं.

शनिवार को राष्ट्रीय जनता दल के दफ़्तर में पार्टी प्रमुख लालू प्रसाद ने प्रेस को संबोधित करते हुए महागठबंधन को विधानसभा चुनाव में महाजीत मिलने का दावा किया.

इमेज कॉपीरइट PTI

लालू यादव ने कहा, "महागठबंधन को 190 से कम सीटें नहीं मिलेंगी. भाजपा ने साइकॉलॉजिकल वॉर लड़ा कि एनडीए को बहुमत मिलेगा लेकिन हम नतीजे आने तक किसी अफ़वाह पर ध्यान नहीं देंगे."

चुनाव में दोनों गठबंधनों के बीच कांटे की टक्कर है. लेकिन लालू इसे सिरे से नकारते हैं.

वे कहते हैं, "सबसे पहले लालटेन लेकर बनारस जाएंगे और खोजेंगे कि प्रधानमंत्री मोदी के वादों का क्या हुआ. मोदी संघ के प्रचारक के रूप में काम कर रहे हैं. वो प्रधानमंत्री के रूप में काम नहीं कर रहे.''

इमेज कॉपीरइट MANISH SHANDILYA

दूसरी ओर भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता और विधायक अच्युतानंद लालू के दावे को चुनौती देते हुए कहते हैं, "रस्सी जल गई लेकिन एठन नहीं गई. बिहार में इतने साल लालू-राबड़ी का राज रहा लेकिन विकास का कोई काम नहीं हुआ है. जो संसाधन केन्द्र से आया गरीबों तक नहीं पहुंचा. बिहार में बिजली का खंभा तक नहीं लगा है."

उन्होंने दावा किया कि बिहार में सुशील मोदी के नेतृत्व में एनडीए की सरकार बनेगी.

वैसे तो परिणाम आने के पहले सभी गठबंधन अपने-अपने दावे कर रहे हैं लेकिन माहौल में एक अजीब सी ख़ामोशी है.

आम लोगों के बीच चुनाव परिणाम को लेकर चर्चा तो हो रही है लेकिन स्वर बहुत धीमा है.

लोगों ने अपना फैसला इवीएम मशीन में बंद कर दिया है जो रविवार सुबह से खुलना शुरू हो जायेगा और दोपहर तक सबकुछ साफ़ हो जायेगा.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार