केरल में भाजपा ने लेफ़्ट के गढ़ में सेंध लगाई

केरल में भाजपा की जीत इमेज कॉपीरइट AP

केरल के स्थानीय निकाय चुनावों में मिली पहली बड़ी सफलता से भाजपा राज्य के राजनीतिक परिदृश्य में उभरकर आई है.

केरल में यूनाइटेड डेमोक्रेटिक फ्रंट (यूडीएफ़) के गढ़ में सेंध लगाते हुए भाजपा ने तिरुवनंतपुरम नगर निगम के चुनाव में सफलता हासिल की है.

तिरुवनंतपुरम नगरपालिका की 100 सीटों में से भाजपा ने 33 सीटों पर जबकि लेफ़्ट डेमोक्रेटिक फ्रंट (एलडीएफ) ने 42 सीटों पर कब्ज़ा किया है.

वहीं कांग्रेस 20 सीटें जीतकर तीसरे स्थान पर रही है.

इमेज कॉपीरइट Pragit P Elayath

भाजपा नेता वीवी राजेश ने कहा, " हमारे लिए राज्य में यह पहली बड़ी जीत है. प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की लहर और हमारे लगातार प्रयासों का फल है यह जीत."

2 और 5 नवंबर को केरल में स्थानीय निकाय चुनाव हुए थे जिनमें 941 ग्राम पंचायत, 152 ब्लॉक पंचायत, 14 ज़िला पंचायत, 86 नगरनिगम और छह नगरपालिकाओं के लिए वोट डाले गए थे.

हालांकि, एलडीएफ़ 941 ग्राम पंचायतों में से 524 सीटों पर जीत हासिल कर सबसे आगे रहा है. एलडीएफ़ ने कई पंचायत सीटों को जीतकर यूडीएफ़ को पछाड़ दिया है.

भाजपा ने 17 ग्राम पंचायतों और एक नगरनिगम पर कब्ज़ा करने के अलावा कई पॉकेट वॉर्डों में भी सीटें हासिल की हैं. साथी ही भाजपा कासरगोड ज़िले को बचाने में कामयाब रही है.

पिछड़े हिंदुओं के संगठन एसएनडीपी के साथ गठबंधन कर भाजपा ने यूडीएफ़ का गढ़ मानी जाने वाली कोल्लम, त्रिचूर और कोटक्कल सीटों पर खाता खोला .

इमेज कॉपीरइट EPA

वहीं मुस्लिम बहुल सीटें मंजरी की एक सीट, थानूर की 10 सीटों और थालासेरी में छह सीटों पर जीत हासिल कर भाजपा ने सबको चौंका दिया है.

भाजपा की सफलता पर राजनीतिक विश्लेषक जेकब जॉर्ज ने कहा, "ये नतीजे दिखाते हैं कि लोग अब इंडियन यूनाइटेड मुस्लिम लीग (आईयूएमएल) और उसके साथी दल कांग्रेस से ऊब गए हैं. "

इमेज कॉपीरइट Pragit P Elayath

केरल विधानसभा में विपक्ष के नेता वी एस अच्यूतानंदन ने कहा, "लोग भ्रष्टाचार से तंग आ गए हैं और कांग्रेस को पीछे धकेल कर हमें वापस सत्ता में देखना चाहते हैं. भाजपा का उदय चिंता का विषय है, यूडीएफ़ द्वारा लोकतंत्र का दुरुपयोग होने से भाजपा को बढ़ावा मिला है."

कांग्रेस के प्रवक्ता ने कहा कि उम्मीदवारों के चुनाव की वजह से यूडीएफ़ को नुकसान हुआ है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार