लालू को छोड़ ज़्यादातर के बेटे फ़ेल

लालू प्रसाद यादव के बेटे इमेज कॉपीरइट rjd.co.in

बिहार चुनाव में लालू-नीतीश-कांग्रेस महागठबंधन को मिले ज़बर्दस्त जन समर्थन का एक असर अलग रूप में भी बिहार चुनाव के नतीजों में सामने आया है. लालू प्रसाद यादव के दोनों बेटों को छोड़ एनडीए के सभी बड़े नेताओं के बेटे चुनाव हार गए.

एनडीए में पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी, भाजपा सांसद अश्विनी चौबे और पूर्व केंद्रीय मंत्री सीपी ठाकुर के बेटे चुनावी मैदान में थे.

इमेज कॉपीरइट manish shandilya

जीतनराम मांझी के बेटे संतोष कुमार सुमन कुटुंबा सुरक्षित सीट पर कांग्रेस उम्मीदवार राजेश कुमार के हाथों पराजित हुए.

मांझी की पार्टी हम (सेक्यूलर) के प्रदेश अध्यक्ष शकुनी चौधरी ख़ुद तो तारापुर सीट से मैदान में थे ही उनके बेटे राजेश कुमार भी खगड़िया सीट से चुनाव लड़ रहे थे. दोनों अपनी-अपनी सीट हार गए हैं.

वहीं भाजपा सांसद अश्विनी चौबे के बेटे अपनी पिता की ही पुरानी भागलपुर सीट पर कांग्रेस प्रत्याशी और वर्तमान विधायक अजित शर्मा से हारे.

इमेज कॉपीरइट PTI

भाजपा सांसद सीपी ठाकुर के बेटे विवेक ठाकुर को भाजपा के विधायक दिलमणि देवी का टिकट काटकर पार्टी ने ब्रह्मपुर सीट से उम्मीदवार बनाया था. लेकिन विवेक भाजपा की यह सीट नहीं बचा सके.

आरजेडी के शंभुनाथ यादव ने उन्हें क़रीब 31 हज़ार वोटों से हरा दिया है.

लोजपा सांसद रामचंद्र पासवान के पुत्र प्रिंस राज कल्याणपुर सीट से पहली बार मैदान में कूदे थे. उन्हें भी हार का सामना करना पड़ा.

इमेज कॉपीरइट MANISH SHANDILYA
Image caption अनिल कुमार साधु

रामविलास पासवान के दोनों दामाद अनिल कुमार साधु और मृणाल पासवान भी चुनाव मैदान में थे. जहां अनिल कुमार साधु बोंचहा से चौथे स्थान पर रहे, मृणाल मुक़ाबले में रहे लेकिन जीत नहीं सके.

लेकिन ऐसा नहीं है कि सभी के बेटों को हार का मुंह देखना पड़ा. शिवानंद तिवारी के बेटे राहुल तिवारी जीत गए हैं. वे राजद के टिकट पर शाहपुर से चुनाव लड़ रहे थे और उन्होंने भाजपा के उम्मीदवार विश्वेशार ओझा को हराया.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार